पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Chhattisgarh
  • Raipur
  • Raipur Bhilai (Chhattisgarh) Coronavirus Cases; Lockdown Update | Chhattisgarh Corona Cases District Wise Today News; Korba Durg Bilaspur Rajnandgaon

छत्तीसगढ़ में कोरोना से मामूली राहत के संकेत:राज्य में 63 हजार टेस्ट पर 9717 पॉजिटिव, अब पॉजिटिविटी रेट 15%, स्वास्थ्य मंत्री बोले- गेंद अब जनता के पाले में

रायपुर4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

कोरोना की दूसरी लहर से जूझ रहे छत्तीसगढ़ में जांच के आंकड़ों ने कुछ राहत दी है। मंगलवार को प्रदेश में कोरोना के 63 हजार 811 नमूनों की जांच हुई। इसमें 9 हजार 717 नए लाेग कोरोना संक्रमित पाए गए। इस मान से पॉजिटिविटी दर 15% रही है। मतलब प्रत्येक 100 टेस्ट में 15 लोग ही कोरोना संक्रमित पाए गए। 10 दिन पहले तक यह दर 30% तक थी। एक दिन पहले सोमवार को सरकार ने कोरोना के 64 हजार से अधिक नमूनों की जांच की थी। यह अब तक एक दिन में हुई सर्वाधिक कोरोना जांच का रिकाॅर्ड है।

स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव ने कहा है कि लॉकडाउन लगने के बाद सकारात्मक प्रभाव दिखने लगा है। केस कम हो रहे हैं। रायपुर और दुर्ग में जहां सबसे ज्यादा केस आ रहे थे, वहां संक्रमण की रफ्तार थम सी गई है। बिलासपुर और सरगुजा संभाग में अभी भी 20-25% पॉजिटिविटी दर है। यह चिंता का विषय है। इसके बाद भी पूरे राज्य में अधिक टेस्ट के बाद भी कुल संक्रमित व्यक्तियों की संख्या कम हुई है। पिछले कुछ दिनों से यह ग्राफ गिरता हुआ दिख रहा है।

लॉकडाउन हटाने के संकेत दिए

स्वास्थ्य मंत्री ने 17 मई से लॉकडाउन हटाए जाने के संकेत भी दिए हैं। टीएस सिंहदेव ने कहा, लॉकडाउन हटने के बाद नागरिक अगर यह मानकर चले कि कोरोना चला गया तो यह बहुत बड़ी भूल होगी। अगर हमने एहतियात नहीं बरता। अपने व्यवहार में कमी की तो कब कोरोना बढ़ जाएगा और शासन-प्रशासन को फिर से लॉकडाउन लगाना पड़ सकता है। लॉकडाउन न लगे इसके लिए गेंद अब नागरिकों के पाले में है।

संक्रमितों की संख्या कम होने का असर अस्पतालों में भी दिखने लगा है। कई अस्पतालों में अब भीड़ छंटती दिख रही है। दबाव भी कम हुआ है।
संक्रमितों की संख्या कम होने का असर अस्पतालों में भी दिखने लगा है। कई अस्पतालों में अब भीड़ छंटती दिख रही है। दबाव भी कम हुआ है।

मौतों की संख्या फिर बढ़ी

पॉजिटिविटी दर कम होने के बावजूद कोरोना संकट पर जीत मिलती नहीं दिख रही है। दो दिनों तक लगातार कमी के बाद मंगलवार को मौतों की संख्या बढ़ गई। सोमवार रात से मंगलवार रात 8 बजे तक 199 मरीजों की मौत रिकार्ड की गई। सोमवार रात को यह आंकड़ा 172 था। वहीं रविवार को 189 लोगों की मौत हुई थी। कोरोना की वजह से अब प्रदेश के 10 हजार 941 लोगों की जान जा चुकी है।

ठीक होने वालों की दर भी सुधरी

मंगलवार को प्रदेश भर में 12 हजार 440 लोगों ने कोरोना को मात दी। उनमें से 459 लोगों को विभिन्न अस्पतालों से इलाज के बाद छुट्‌टी दी गई। शेष होम आइसोलेशन की अवधि पूरी कर डिस्चार्ज घोषित किए गए थे। इसके साथ ही अब तक ठीक हुए लोगों की संख्या 7 लाख 40 हजार 283 हो गई है।

रायपुर-दुर्ग के केवल एक जिले में पॉजिटिविटी दर 20 से अधिक

रायपुर और दुर्ग संभाग के 10 जिलों में कोरोना संक्रमण की रफ्तार तेजी से कम होती दिख रही है। कभी कोरोना के हॉटस्पाट रहे इन संभागों में से अब केवल एक जिला धमतरी ही ऐसा है जहां पॉजिटिविटी दर 22% है। रायपुर में यह 12%, बलौदा बाजार में 16%, महासमुंद में 13% और गरियाबंद में 15% है। दुर्ग में पॉजिटिविटी दर केवल 7% है। वहीं राजनांदगांव में 12%, बालोद में 18%, बेमेतरा में 11% और कबीरधाम में यह दर 16% है।

बस्तर के दो जिलों में 5% से कम दर

सबसे संतोषजनक तस्वीर फिलहाल बस्तर संभाग की है। यहां सबसे अधिक 15% की पॉजिटिविटी दर बस्तर जिले की मिली है। इसके बाद भी सुकमा जिले में पॉजिटविटी दर केवल 4% और बीजापुर जिले में 5% मिली है। पॉजिटिविटी दर की इस सीमा को नियंत्रित माना जाता है। दर बढ़ने पर सामुदायिक संक्रमण का चरण शुरू हो जाता है, जिसमें संक्रमण के स्रोत का पता नहीं होता। बस्तर के दूसरे जिलों में कोण्डागांव में यह दर 10 % है, दंतेवाड़ा और नारायणपुर में 9% तथा कांकेर में 6% पॉजिटिविटी दर रही है।

11 लाख से अधिक संदिग्ध मरीजों को दवा बांटा गया

स्वास्थ्य विभाग का दावा है कि इस बीच उन्होंने 11 लाख 42 हजार 358 लोगों को कोरोना के प्राथमिक इलाज की दवाओं का किट उपलब्ध कराया है। इस किट में आइवरमेक्टिन, डॉक्सीसाइक्लिन, पैरासिटामॉल, विटामिन-सी और जिंक की टैबलेट थीं। जिन लोगों को यह दवा दी गई, उनमें कोरोना के लक्षण तो थे लेकिन रिपोर्ट या तो निगेटिव आई थी अथवा रिपोर्ट मिलने में देर हो रही थी।

खबरें और भी हैं...