कांग्रेस बोली:मड़वा ताप संयंत्र में निर्माण की शुरुआत के समय से ही हुआ भ्रष्टाचार

रायपुर9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

कांग्रेस प्रवक्ता एमए इकबाल ने कहा कि प्रदेश के मड़वा ताप विद्युत संयंत्र अपने निर्माण के शुरुआती सालों से ही विवादों में रहा। क्योंकि तत्कालीन मुख्यमंत्री और उर्जा मंत्री के कारण ही आज यह प्लांट गले की हड्‌डी बन गया है। इकबाल ने बताया कि मड़वा में 500-500 की दो यूनिट हैं जिसमें से पहली यूनिट 42 माह तो दूसरी यूनिट 44 माह विलंब से शुरू हुई।

विलंब होने के कारण कुल लागत से लगभग ढाई हजार करोड़ रुपए ज्यादा खर्च हुए। इकबाल ने आरोप लगाया कि 2500 करोड़ रु. के नुकसान की भरपाई के लिये जिम्मेदार बीजीआर कंपनी हैदराबाद से वसूली क्यों नहीं की गयी एवं विद्युत उत्पादन कंपनी के खर्च पर इसका सुधार क्यों किया गया?

खबरें और भी हैं...