छत्तीसगढ़िया माइकल जैक्सन का वीडियो:10 सालों से नहीं किया था डांस, बच्चों की जिद पर ऐसा नाचे कि अब पूरे देश में चर्चा; जांजगीर के फूलचंद बने देसी जैक्सन

रायपुर4 महीने पहले
छत्तीसगढ़ के जांजगीर जिले के फूलचंद का वीडियो इंटरनेट में धूम मचा रहा है।

इंटरनेट पर माइकल जैक्सन की तरह फेस एक्सप्रेशन और फनी डांस मूव्स की वजह से एक शख्स का वीडियो तेजी से वायरल हो रहा है। ये कौन है, कहां रहता है, यह जाने बिना बस मस्ती भरे डांस का वीडियो लोग पसंद कर रहे हैं। सोशल मीडिया पर लोगों ने इन्हें देसी माइकल जैक्सन नाम दे दिया है। वीडियो में दिख रहे इस देसी माइकल जैक्सन का ताल्लुक छत्तीसगढ़ से है। हालांकि, उनकी पहचान हो गई है। ये जांजगीर के गोदना गांव में रहने वाले बिजली मिस्त्री 40 साल के फूलचंद मंझवार हैं।

अपने डांस में फूलचंद जमीन से 4 फीट ऊपर हवा में भी उछल रहे थे।
अपने डांस में फूलचंद जमीन से 4 फीट ऊपर हवा में भी उछल रहे थे।

फूलचंद से अब आसपास के गांव के लोग मिलने आ रहे हैं। तस्वीरें खिंचवा रहे हैं। फूलचंद ने बताया कि वीडियो पिछले सप्ताह का है। गांव में गणेश विसर्जन के मौके पर उन्होंने बीच सड़क इसे परफॉर्म किया। गांव के बच्चों की जिद की वजह से तकरीबन 10 साल बाद वो लोगों के बीच इस कदर नाचे। इसी दौरान किसी ने मोबाइल से फूलचंद के डांस स्टेप रिकॉर्ड कर वीडियो सोशल मीडिया पर अपलोड कर दिया। रातों-रात अब फूलचंद डांसिंग सेंसेशन बन चुके हैं। फूलचंद ने बताया कि बचपन में माइकल जैक्सन का डांस टीवी पर देखा था, तभी से जैक्सन को गुरु और खुद को एकलव्य की तरह शिष्य मानकर डांस कर रहे हैं।

फूलचंद के गायब रस्सी मूव की चर्चा भी जोरों पर है।
फूलचंद के गायब रस्सी मूव की चर्चा भी जोरों पर है।

व्यायाम जो बन गया डांस
अपने डांसर बनने की दिलचस्प वजह का जिक्र करते हुए फूलचंद ने बताया कि वो स्कूल के दिनों में घर में व्यायाम किया करते थे। इस कसरत में उनके मूव आसपास के घरों के लोग छुप-छुप कर देखा करते थे। उन्हें फूलचंद का व्यायाम थोड़ा अजीब और कुछ-कुछ ऐसा लगता था मानों डांस कर रहे हों। गांव में बातें शुरू हो गई थीं कि फूलचंद बढ़िया डांस करता है। ये बात फूलचंद तक पहुंची तो वो भी हैरान थे मैंने तो डांस किया ही नहीं। लोगों के अच्छे रिएक्शन की वजह से अपने व्यायाम में फूलचंद ने डांस को भी जोड़ दिया और फिर माइकल जैक्सन की तरह प्रैक्टिस करने लगे।

आर्थिक मदद मिले तो और निखारेंगे अपना हुनर
फूलचंद ने बताया कि डांस की शुरुआत 17-18 साल पहले हुई थी। तब गांव के आसपास होने वाली छोटी-मोटी प्रतियोगिताओं में भी जाते थे। शहर में होने वाले इवेंट या कॉम्पिटिशन में जाना तो चाहते थे, मगर इतने पैसे नहीं होते थे कि अपने गोदना गांव से रायपुर या किसी दूसरे बड़े शहर जा सकें। आज भी लोग कहते हैं रियलिटी शोज के ऑडिशन दूं मगर मेरे पास वहां तक जाने के पैसे नहीं हैं। 5वीं तक पढ़ाई की। तब गांव में फूलचंद इनके डांस के चर्चे हुआ करते थे।

जांजगीर के गांव में इसी झोपड़ी में फूलचंद रहते हैं।
जांजगीर के गांव में इसी झोपड़ी में फूलचंद रहते हैं।

पढ़ाई में मन नहीं लगा, टीचर से भी डांट मिला करती थी तो आगे नहीं पढ़ सके। कुछ वक्त बाद शादी हो गई तो सब कुछ छूट सा गया। परिवार का पेट पालने बिजली मिस्त्री बन गए। त्योहार के मौके पर गणेश और दुर्गा की प्रतिमाएं बनाने का काम भी करने लगे। कभी कभार, मस्ती के मूड में गांव में ही डांस कर लिया करते थे। अब इतने सालों बाद फिर से डांस की वजह से चर्चा में आने के बाद फूलचंद ने कहा कि यदि कुछ आर्थिक मदद मिले तो अपने हुनर से अपने गांव के नाम को देश और दुनिया तक पहुंचाना चाहेंगे।

खबरें और भी हैं...