पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

पाठ्य पुस्तक निगम में गोलमाल:सरकारी किताबें छाप रही प्रिटिंग प्रेस में पहुंचकर भाजपा नेता गौरी बोले-ठेका दिया किसी और को, काम कोई और कर रहा

रायपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
इस प्रिटिंग प्रेस में पहुंचने के बाद गौरी शंकर ने थाने जाकर इस पूरे मामले पर पुलिस से कार्रवाई की मांग की है। - Dainik Bhaskar
इस प्रिटिंग प्रेस में पहुंचने के बाद गौरी शंकर ने थाने जाकर इस पूरे मामले पर पुलिस से कार्रवाई की मांग की है।

भाजपा नेता गौरी शंकर श्रीवास ने पाठ्य पुस्तक निगम पर भ्रष्टाचार का आरोप लगाया है। गौरी ने शुक्रवार को अचानक रायपुर की एक प्रिटिंग प्रेस में धावा बोल दिया। अचानक यहां पहुंचने पर भाजपा नेता ने देखा कि सरकारी स्कूलों में बच्चों को बांटी जाने वाली किताबों की छपाई का काम हो रहा था। ये काम पाठ्य पुस्तक निगम ने प्रोग्रेसिव ऑफसेट को दिया है। जबकि किसी और प्रेस​​​​ में छपाई का काम हो रहा था।

इसे लेकर गौरी शंकर ने कहा कि पिछले एक साल से पाठ्य पुस्तक निगम में गड़बड़ियों का खेल चल रहा है। इसमें निगम के अध्यक्ष कांग्रेस नेता शैलेष नितिन त्रिवेदी भी शामिल हैं। ठेके के तहत छपाई का काम करना प्रोग्रेसिव ऑफसेट को था मगर मीनल पब्लिकेशन नाम की दूसरी प्रिटिंग प्रेस में छपाई का काम नियमों के विरुद्ध हो रहा है। ये निविदा की शर्त के उल्लंघन का मामला है। हमने इस मामले में पुलिस से शिकायत की है। हम चाहते हैं कि इस मामले में शामिल लोगों और प्रिटिंग एजेंसी पर कानूनी कार्रवाई की जाए।

पाठ्य पुस्तक निगम के अध्यक्ष बोले- मैं नहीं अफसर देखेंगे
पाठ्य पुस्तक निगम के अध्यक्ष शैलेष नितिन त्रिवेदी ने इस पूरे घटनाक्रम को लेकर कहा कि भ्रष्टाचार के आरोप सही नहीं। अगर किसी कंपनी ने जिसे ठेका दिया गया और काम कोई और कर रहा है तो ये निविदा शर्त के उल्लंघन का मामला हो सकता है। निविदा से जुड़ी प्रक्रिया या शिकायतों का निराकरण मैं नहीं पाठ्य पुस्तक निगम के जीएम, एमडी करते हैं। इस मामले की शिकायत मिलेगी और यदि सही पाई जाती है तो नियमत: जो कार्रवाई होगी की जाएगी।

खबरें और भी हैं...