धुआंधार...राजधानी में सौ साल की रिकार्ड वर्षा:दिसंबर की रिकॉर्ड बारिश,  मौसम के दिलचस्प उतार-चढ़ाव और उसके असर के बारे में वह सब कुछ जो आप जानना चाहते है

रायपुर5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

दिसंबर में पिछले 24 घंटे में राजधानी में जितनी बारिश हुई, सौ साल में नहीं हुई। यहां एक दिन में करीब 67 मिमी पानी बरसा है। रायपुर मौसम केंद्र के पूर्व निदेशक एमएल साहू के मुताबिक अलग-अलग माध्यमों में रायपुर में दिसंबर में बारिश के जो आंकड़े उपलब्ध हैं, उनके अनुसार यह सौ साल की रिकार्ड बारिश है। इससे पहले 9 दिसंबर 2010 को 64.1 मिमी बारिश रिकार्ड थी, जो टूटा है।

शहर में मंगलवार शाम 7 बजे शुरू हुई बारिश बुधवार रात तक रुक-रुककर होती रही और जिस दिसंबर अंत में राजधानी में कड़ाके की सर्दी पड़ती है, वहां लोग दिनभर बारिश से बचते-जूझते नजर आए। लगातार बारिश से कुछ निचली बस्तियों में पानी भरने की सूचना है, लेकिन निगम अफसरों के मुताबिक पानी किसी के घर में नहीं घुसा। जलविहार कालोनी समेत शहर के दर्जनभर निचले इलाकों में सड़कें तकरीबन एक फीट तक पानी में डूबीं। बारिश थोड़ी-थोड़ी देर में धीमी भी होती रही, इसलिए पानी निकलता रहा। सड़कों का पानी क्लीयर करने के लिए नगर निगम की आधा दर्जन टीमें दिनभर घूमती रहीं। जलविहार कालोनी से लेकर केनाल रोड से भी दो-तीन जगह पानी निकालने के लिए डिवाइडर के बंद हुए छेद खोले गए। गौरतलब है कि इस जगह पर हर बारिश में जल भराव हो जाता है।

33 घंटे में 88.2 मिमी वर्षा यह भी ऑलटाइम रिकार्ड
राजधानी में मंगलवार की रात 7 बजे से शुरू हुई बारिश बुधवार शाम करीब 5 बजे तक चली। रुक-रुककर कभी हल्की तो कभी तेज बारिश होती रही। राजधानी में मंगलवार की सुबह साढ़े 8 से बुधवार की सुबह साढ़े 8 बजे तक 66.6 मिमी वर्षा रिकार्ड की गई। जबकि सुबह साढ़े 8 से शाम साढ़े 5 बजे तक 21.6 मिमी पानी बरसा, अर्थात 33 घंटे में 88.2 मिमी बारिश हो गई। यह भी ऑलटाइम रिकार्ड है।
कलेक्टोरेट में 59 मिमी पर लाभांडी में 52 मिमी वर्षा
राजधानी में तीन स्थानों पर रेन गेज लगे हैं। तीनों में अलग-अलग वर्षा रिकार्ड हुई है। भास्कर की पड़ताल के मुताबिक लालपुर मौसम विज्ञान केंद्र में 66.6 मिमी बारिश रिकार्ड की गई। कलेक्टोरेट परिसर में 59.2 व लाभांडी में 52 मिमी वर्षा दर्ज की गई। शहर के आउटर यानी माना भी 50 मिमी बारिश रिकार्ड हुई।

दिन और रात के तापमान में सिर्फ 2 डिग्री का फर्क
बारिश के कारण राजधानी में दिन व रात के तापमान में केवल 2 डिग्री का अंतर रहा। दोपहर का तापमान 18.5 डिग्री रहा जबकि सुबह साढ़े 5 बजे का तापमान 16.6 डिग्री रहा। दिन का तापमान सामान्य से 9 डिग्री कम रहा, जबकि सुबह का तापमान 4 डिग्री ज्यादा रहा। इससे दिन में ठंड लगी। हवा की रफ्तार सामान्य से थोड़ी ज्यादा थी, इसलिए ठंड का एहसास ज्यादा हुआ और पूरा शहर दिनभर गर्म कपड़ों में नजर आया।

डॉक्टरों की राय अगर बारिश में भीगे हों तो सावधानी रखें
मंगलवार की रात व बुधवार की सुबह से दोपहर तक हुई बारिश में बड़ी आबादी भीगी है। डाक्टरों का कहना है कि इस मौसम की बारिश में भीगना अच्छा नहीं है और इससे वायरल इन्फेक्शन हो सकते हैं। सीनियर मेडिकल कंसल्टेंट डॉ. योगेंद्र मल्होत्रा व प्लास्टिक सर्जन डॉ. कमलेश अग्रवाल के अनुसार आज सुबह से सर्दी-खांसी और सिरदर्द की शिकायत लेकर मरीज आए हैं। इनमें से अधिकांश वही हैं, जो मंगलवार को भीग गए थे।

शरीर का कम तापमान वायरस के अनुकूल
डाक्टरों ने बताया कि बारिश में भीगने से शरीर का तापमान 37 डिग्री से कम हो जाता है। इससे वातावरण में रहने वाले वायरस शरीर में प्रवेश कर जाते हैं। इससे लोग बीमार पड़ने लगते हैं।

आज बारिश के आसार कम
रायपुर में दिसंबर में इससे पहले सबसे ज्यादा वर्षा 9 दिसंबर 2010 में हुई थी। 29 दिसंबर की बारिश सौ साल का रिकार्ड है। हालांकि गुरुवार को बारिश के आसार नहीं हैं, क्योंकि द्रोणिका के असर कम हो रहा है।
-एलएल साहू, उप महानिदेशक-मौसम विभाग

खबरें और भी हैं...