प्याज 40 रुपए किलो से पार:बारिश में खराब होने से महाराष्ट्र में ही महंगा, इसलिए यहां भी

रायपुर4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

नए लोकल प्याज की आवक के बावजूद राजधानी में प्याज का रेट एक माह में दोगुना हो गया है। सोमवार को शहर के बाजारों में नया प्याज ही 40 रुपए किलो बिका, जबकि थोक में यह 30 रुपए किलो में जारी किया गया। इसी तरह, पुराना प्याज 40 रुपए किलो से ऊपर जा चुका है। कारोबारियों का कहना है कि राजधानी समेत प्रदेश में प्याज की सप्लाई स्थानीय पैदावार पर पूरी तरह निर्भर नहीं है। महाराष्ट्र के कुछ शहरों से यहां प्याज आयात होती है और वहां ज्यादा बारिश की वजह से फसल खराब हो गई है।

राजधानी के प्याज कारोबारियों का दावा है कि महाराष्ट्र में बारिश तथा भारत से अन्य देशों को प्याज के निर्यात ने रेट बढ़ाए हैं, इसलिए अगले कुछ दिन तक इसकी कीमतों में कमी की संभावना नहीं है। रायपुर में 80 फीसदी प्याज महाराष्ट्र के मुंबई, नासिक, पुणे, अमरावती समेत कई शहरों से आता है। वहां ज्यादा बारिश की वजह से प्याज की सप्लाई प्रभावित हुई, इसीलिए कीमतें बढ़नी शुरू हो गईं। पिछले साल नवंबर-दिसंबर और साल की शुरुआत में बारिश की वजह से प्याज की फसल खराब हुई थी। उस समय प्याज की कीमत 50 रुपए किलो तक पहुंच गई थी। लेकिन बाद में स्थिति धीरे-धीरे सामान्य होने के बाद प्याज की कीमत 20, 25 और 30 रुपए किलो तक में आ गई थी। लेकिन बाहरी शहरों से एक बार फिर से प्याज की सप्लाई प्रभावित होने की वजह से कीमत बढ़ गई।

महाराष्ट्र में भारी बारिश से प्याज की फसल खराब हुई है। थोक में नया प्याज 25 से 30 और पुराना 35 से 40 रुपए किलो में बिक रहा है। रेट गिरना मुश्किल है।
-अजय अग्रवाल, अध्यक्ष थोक आलू-प्याज विक्रेता संघ

खबरें और भी हैं...