पिता से बिछड़ गई बेटी:युवती सुन-बोल नहीं सकती थी, अंबेडकर अस्पताल की भीड़ में भटकी; जहां गुम हुई वहां लगे कैमरे भी खराब

रायपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
युवती को दिनभर पुलिस ढूंढती रही। - Dainik Bhaskar
युवती को दिनभर पुलिस ढूंढती रही।

इलाज के सिलसिले में 32 साल की सविता जोशी अपने पिता के साथ अंबेडकर अस्पताल आई थी। पिता दवा लेने और OPD की पर्ची बनवाने काउंटर के बीच दौड़-भाग कर रहे थे। भीड़ की वजह से वो पिता से बिछड़ गई। सविता सुन-बोल नहीं सकती है। काफी देर तक ढूंढने पर भी नहीं मिली। पिता ने अपने दामाद किर्ती परमानंद को इसकी खबर दी। सूचना पुलिस के पास भी पहुंची। पुलिस की जांच टीम फौरन अंबेडकर अस्पताल आई, जहां से युवती गुम हुई। उस जगह पर CCTV कैमरों को जांचा गया तो कुछ खराब थे, महीनों से बंद पड़े थे। कुछ में विजुअल क्लियर नहीं थे।

सोमवार देर शाम युवती पुलिस को मिल गई।
सोमवार देर शाम युवती पुलिस को मिल गई।

मौदहापारा थाने की टीम इसके बाद दिनभर युवती के जीजा से मिली तस्वीर लेकर अंबेडकर अस्पताल के आस-पास सैंकड़ों लोगों से पूछताछ करती रही। कुछ लोगों से यह जानकारी मिली कि युवती कैनाल रोड की तरफ गई है। जिसकेे बाद टीम ने उस सड़क में लगे कुछ कैमरों को जांचा। टीम को पता चला कि युवती मंदिरहसौद इलाके के छेरीखेड़ी की रहने वाली है। उसे घर का रास्ता कुछ-कुछ याद है तो शायद वो अपने घर लौटने का प्रयास कर रही थी।

मौदहापारा थाने की टीम ने कैनाल रोड पर ही युवती की तलाश शुरू की। सोमवार की रात वो लालपुर की दिशा में पुलिस को मिली। पुलिस ने फौरन युवती के घरवालों से संपर्क कर सविता को उनके हवाले किया। करीब 5 से 6 घंटों तक सविता को ढूंढने की मेहनत आखिरकार रंग लाई। सविता के जीजा किर्ती परमानंद ने पुलिस का शुक्रिया किया है।

खबरें और भी हैं...