पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

मानसून सत्र:संक्रमण से बचाने 2 विधायकों के बीच सोफे पर लगा रहे कांच का फ्रेम, विधायकों के साथ सिर्फ वाहन चालक को परिसर में मिलेगा प्रवेश

रायपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
स्पीकर ने सदन में बैठक व्यवस्था की जानकारी ली।
  • कोरोना के बीच मानसून सत्र 25 से, स्पीकर डॉ. महंत ने लिया संक्रमण से बचाव की तैयारियों का जायजा

कोरोना के साये में हाेने वाले छत्तीसगढ़ विधानसभा का मानसून सत्र 25 अगस्त से शुरु होगा। चार दिन तक चलने वाले सत्र के लिए सदन के भीतर बैठक व्यवस्था में बदलाव किया जा रहा है। सोशल और फिजिकल डिस्टेंसिंग काे ध्यान में रखते हुए सदस्यों के बैठने वाले सोफे के बीच में कांच का फ्रेम लगाया जा रहा है। इसी तरह से दर्शक और पत्रकार दीर्घाएं बंद रहेंगी। कोरना संक्रमण में कमी न आई तो यह व्यवस्था शीत सत्र में भी बनी रहेगी। स्पीकर डां.चरणदास महंत ने सोमवार को सदन के भीतर हो रहे परिवर्तन का जायजा लिया। उन्होंने कहा कि 20 अगस्त तक व्यवस्था दुरुस्त कर लिया जाए। मार्च में कोरोना की दस्तक के साथ ही बजट सत्र बीच में ही खत्म कर दिया गया था। इन पांच महीनों में कोरोना संक्रमण और तेजी से बढ़ गया है। इसे ध्यान में रखते हुए स्पीकर डा. महंत ने कहा कि सदन के भीतर और पूरे विधानसभा परिसर में कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए बनाई गई गाइडलाइन का पूरी तरह से पालन किया जाए। उन्होंने कहा कि सदन के भीतर लगाए जा रहे कांच को भी रोज सैनेटाइज किया जाए। इस दौरान विधायक शैलेष पांडेय और प्रमुख सचिव चंद्रशेखर गंगराडे, अपर सचिव दिनेश शर्मा भी मौजूद थे।

विधायकों के साथ सिर्फ वाहन चालक आ पाएंगे परिसर में
सत्र के दौरान विधायकों को भी ज्यादा लोगों को लेकर नहीं आने की सलाह दी गई है। उन्हें कहा गया है कि विधानसभा परिसर के भीतर विधायक केवल अपने वाहन चालक के साथ ही प्रवेश कर पाएंगे जबकि कार्यालय परिसर में विधायक अकेले ही आएंगे। वहीं केवल वही अधिकारी ही सदन के भीतर जा पाएंगे जिनका प्रश्न लगा होगा या जिन्हें बुलाया गया होगा। इसके अलावा अन्य किसी को भी प्रवेश की अनुमति नहीं होगी।

0

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- समय की गति आपके पक्ष में रहेगी। सामाजिक दायरा बढ़ेगा। पिछले कुछ समय से चल रही किसी समस्या का समाधान मिलने से राहत मिलेगी। कोई बड़ा निवेश करने के लिए समय उत्तम है। नेगेटिव- परंतु दोपहर बाद परिस...

और पढ़ें