महतारी दुलारी योजना:अनाथ बच्चों के लिए सरकार ने दिए 1.65 करोड़, स्कूलों तक नहीं पहुंचे

रायपुर13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

कोरोना से मृत माता-पिता के बच्चों की पढ़ाई जारी रखने के लिए सरकार ने 1.65 करोड़ रुपए जारी की है। यह राशि 2373 बच्चों में बांटी जानी है। राज्य सरकार ने ऐसे छात्र-छात्राओं की आर्थिक मदद के लिए महतारी दुलार योजना शुरू की है। सरकारी स्कूल के उन बच्चों को जिनके खाते खुल गए हैं, राशि जमा कराई जा रही है, लेकिन निजी स्कूलों में पढ़ रहे अनाथ बच्चों को यह स्कॉलरशिप नहीं मिली है। सरकार ने चार करोड़ रुपए इसके लिए सप्लीमेंट्री बजट में रखे हैं। प्रदेश के सभी जिलों में कोरोना की दूसरी लहर का कहर बरसा और सैकड़ों बच्चे अनाथ हो गए।

इनके घर से अकेला कमाने वाले की मौत हो गई। जिन बच्चों को आत्मानंद अंग्रेजी स्कूलों में प्रवेश दिया गया है, उनसे फीस नहीं ली जा रही है। स्कॉलरशिप सीधे शिक्षा संचालनालय से ही बच्चों के खातों में जमा कराई जा रही है। योजना के प्रभारी व नोडल अधिकारी इस बारे में कुछ भी बताने से कन्नी काट रहे हैं।

इधर, निजी स्कूल फीस के लिए छात्रों को चेतावनी दे रहे हैं। रायपुर जिले में 709 आवेदन आए थे। डीईओ अशोक नारायण बंजारा के अनुसार सरकारी स्कूलों में पढ़ने वाले बच्चों के खातों में राशि जमाई कराई जा रही है। अब तीसरी लहर ओमिक्रॉन के रूप में आ गई है, लेकिन दूसरी लहर के प्रभावित बच्चे मदद को तरस रहे हैं।

छात्रों को हर माह 500 से 1000 रु.
पिछले अप्रैल -मई में कोरोना दूसरी भयावह लहर में मृत माता-पिता के अनाथ बच्चों को पढ़ाने की जिम्मेदारी ली थी। राज्य शासन ने कक्षा पहली से आठवीं तक के छात्रों को 500 रुपए एवं 9-12 वीं के छात्रों को 1000 रुपए प्रतिमाह छात्रवृति देने का प्रावधान किया है। साथ ही जिन बच्चों के माता या पिता की मृत्यु कोरोना बीमारी से हुई हो उनकी भी फीस राज्य शासन के द्वारा दी जानी है।

ओपन स्कूल परीक्षा के आवेदन 10 जनवरी तक
छत्तीसगढ़ राज्य ओपन स्कूल द्वारा आयोजित मुख्य एवं अवसर परीक्षा वर्ष 2022 में शामिल होने के लिए 500 रूपए विलंब शुल्क के साथ प्रवेश की अंतिम तिथि 10 जनवरी तक निर्धारित की गई है। पूर्व में परीक्षा में प्रवेश के लिए अंतिम तिथि 31 दिसम्बर 2021 निर्धारित की गई थी। ओपन स्कूल द्वारा छात्रहित में यह निर्णय लिया गया है।

छात्र प्रवेश से संबंधित अधिक जानकारी के लिए अपने समीपस्थ अध्ययन केन्द्र में संपर्क कर जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। अध्ययन केन्द्रों की सूची कार्यालय की वेबसाईट www.sos.cg.nic.in पर उपलब्ध है।

खबरें और भी हैं...