पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

नई गाइडलाइन जारी:50 हजार से ज्यादा का चेक तो पहले ग्राहक को बताएंगे बैंक

रायपुर15 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

बैंकों में फर्जी चेक से होने वाली ठगी को रोकने रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (आरबीआई) ने नई गाइडलाइन जारी की है। यह नया नियम सरकारी और निजी दोनों बैंकों में लागू किया गया है। अब 50 हजार से अधिक का चेक जमा करने के पहले खाताधारकों को सूचना देकर बताना होगा कि उनका कितने रुपयों का चेक जमा होने वाला है। ऐसा नहीं करने पर उनका चेक रद्द कर दिया जाएगा। अफसरों का दावा है कि इससे नकली, डुप्लीकेट, क्लोनिंग या स्कैन से तैयार किए गए चेक से होने वाले फर्जीवाड़े बहुत हद तक रुक जाएंगे।

आरबीआई ने इसी महीने से चेक ट्रांजेक्शन सिस्टम के तहत पॉजिटिव पे सिस्टम लागू करने की घोषणा की है। इस नए नियम के अनुसार बैंकों को 50 हजार या उससे ज्यादा की रकम का भुगतान इसी सिस्टम से करना होगा। नए नियम के अनुसार इस रकम से ज्यादा के चेक का भुगतान करने से पहले संबंधित ग्राहक यानी जिसने चेक काटा है उसे चेक की पूरी जानकारी बैंकों को देनी होगी। यह सूचना नेट बैंकिंग, ई-मेल, व्हाट्स एप या एसएमएस से दी जा सकती है। जरूरत पड़ने पर कॉल करके भी चेक जारी करने की सूचना देनी होगी। जब यह चेक क्लीयरेंस के लिए बैंक पहुंचेगा तो ग्राहक की ओर से दी गई जानकारी और चेक पर दी गई जानकारी का मिलान किया जाएगा। दोनों जानकारी एक समान होने के बाद ही उस चेक से भुगतान किया जाएगा।

इसमें कोई भी फर्क हुआ तो बैंक उस चेक को अस्वीकार कर देगी। इस सिस्टम से ग्राहक को सूचना मिले बिना ही जो चेक विड्रॉल हो जाते थे उस पर रोक लगेगी। अभी राजधानी में ही कई केस ऐसे आ चुके हैं जिसमें ग्राहक को पता ही नहीं था और उसके नाम से चेक क्लियर होने बैंक पहुंच गया था। इतना ही नहीं कई केस ऐसे भी जो दूसरे राज्यों के शहरों में चेक भुगतान होने के लिए पहुंच गए जबकि वही चेक व्यापारी के घर या ऑफिस में ही रखा था। यानी क्लोनिंग से चेक तैयार कर भुगतान पाने की कोशिश की गई थी। नए सिस्टम से इस तरह के फर्जीवाड़ों पर भी रोक लगेगी।

खबरें और भी हैं...