दावत-ए-इफ्तार के जरिए अमन का पैगाम:राज्यपाल और CM पहुंचे रोजेदारों के बीच, मंच पर लिखा था- मजहब नहीं सिखाता आपस में बैर रखना

रायपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

छत्तीसगढ़ प्रदेश की राज्यपाल अनुसुईया उइके और मुख्यमंत्री भूपेश बघेल राजधानी में आयोजित दावत-ए-इफ्तार कार्यक्रम में शामिल हुए। इस अवसर पर उन्होंने सभी रोजेदारों को बधाई दी। सुभाष स्टेडियम में हो रहे इस आयोजन में शहर के कई हिस्सों आए रोजेदार शामिल हुए।

कार्यक्रम में राज्यपाल अनुसुइया उइके मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और महापौर एजाज ढेबर ने हजारों रोजेदारों के साथ बैठकर इफ्तार किया। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा कि कठिन तपस्या और उपासना के तहत दरम्यान का त्यौहार मनाया जाता है मैं ईद की भी अग्रिम बधाई इस कार्यक्रम के जरिए लोगों को दे रहा हूं।

इस रोजा इफ्तार कार्यक्रम में इसमें सभी धर्मों के धर्मावलंबी और धर्म गुरु शामिल हुए और सब ने अपनी-अपनी प्रार्थना के माध्यम से प्रदेश में चैन अमन की दुआ मांगी।

इस कार्यक्रम की जिम्मेदारी संभाल रहे रायपुर के महापौर एजाज़ ढेबर ने सभी धर्मों को जोड़ने और देश में चल रहे विवादों के बीच चैन ओ अमन का पैगाम देने के लिए सभी धर्म गुरुओं को आमंत्रित किया था। कार्यक्रम के लिए तैयार किए गए मंच पर इसी मकसद से लिखा गया था मजहब नहीं सिखाता आपस में बैर रखना।

कार्यक्रम में प्रमुख रूप से प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष मोहन मरकाम, मंत्री अमरजीत भगत, विधायक कुलदीप जुनेजा, सुभाष धुप्पड, गुरुचरण होरा विकास उपाध्याय , राजेंद्र तिवारी , सत्यनारायण शर्मा ,मौजूद रहे।

खबरें और भी हैं...