शराब के अवैध धंधे पर सियासी सवाल:पूर्व मंत्री बृजमोहन अग्रवाल ने पूछा- किस मंत्री के आशीर्वाद से रायपुर में चल रही थी अवैध फैक्ट्री, इसमें कई रसूखदार शामिल

रायपुर4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
इस मामले में मीडिया में अपना बयान बृजमोहन अग्रवाल ने जारी किया। - Dainik Bhaskar
इस मामले में मीडिया में अपना बयान बृजमोहन अग्रवाल ने जारी किया।

आबकारी विभाग के अफसरों ने शनिवार को दावा किया कि शराब की अवैध मिनी फैक्ट्री चलाने वाले को पकड़ा है। आरोपी घर में बोतलों में शराब भरकर उस पर कई कंपनियों के लेबल लगाकर बेचता था। घर से कुछ मशीनें, खाली बोतलें और शराब भी मिली। इस कार्रवाई के बाद पूर्व मंत्री और रायपुर से भाजपा विधायक बृजमोहन अग्रवाल ने कांग्रेस को निशाने पर ले लिया है। उन्होंने पूछा है कि अवैध शराब की कंपनी चलाने वाले पर किस मंत्री का आशीर्वाद है। अगर ईमानदारी से जांच किया जाए तो बड़े से बड़े रसूखदार, सफेद पोश, राजनीति से जुड़े लोग और पुलिस अधिकारियों की मिली भगत उजागर होगी।

इस व्यक्ति को पकड़ा गया था।
इस व्यक्ति को पकड़ा गया था।

बृजमोहन अग्रवाल ने आगे कहा कि इस मामले में प्रदेश सरकार से न्याय व जांच उम्मीद करना ही बेईमानी होगी। विधानसभा परिसर के करीब जैसे महत्वपूर्ण क्षेत्र में नकली शराब बनाने की फैक्ट्री मिलने पर प्रदेश सरकार के पूर्ण शराबबंदी करने वाले वादे पर सवाल उठना लाजमी है। उन्होंने कहा कि राजधानी रायपुर से लगे विधानसभा परिसर के पास यह स्थिति है तो पूरे प्रदेश का क्या हाल होगा , इनका अंदाज लगाया जा सकता है। कांग्रेस ने प्रदेश में सत्ता पाने के लिए पूर्ण शराबबंदी करने का वादा किया था, लेकिन लगभग तीन साल बीत जाने के बाद भी प्रदेश की कांग्रेस सरकार प्रदेश में शराबबंदी करने के बजाय घर-घर शराब पहुंचाने का कार्य कर रही है। अब तो चौक चौराहे, खाली प्लॉट ओपन बार के रूप में परिवर्तित हो गए हैं ।

इस मशीन की मदद से बोतल में शराब सील की जाती थी।
इस मशीन की मदद से बोतल में शराब सील की जाती थी।

बिना संरक्षण के ये मुमकिन नहीं
अग्रवाल ने आगे कहा कि पूरा शहर डिस्पोजल गिलास, पानी पाउच और शराब के खाली बॉटल से पट गया है । परिवार का, खासकर महिलाओं का सड़क पर चलना मुश्किल हो गया है । राजधानी में इस तरह का कारोबार बिना संरक्षण के संभव नहीं हो सकता है। राजस्व बढ़ाने के लिए असली माल की खपत के साथ-साथ नकली शराब भी धड़ल्ले से बेची जा रही है। ऐसा नहीं कि प्रदेश में सिर्फ शराब का अवैध कारोबार फैला है यहां हर प्रकार के नशे का कारोबार हो रहा है। इस कारोबार में लगे लोगों पर कड़ी से कड़ी कार्यवाही होनी चाहिए ।

आबकारी विभाग ने पकड़ा था 8 लाख का माल
शनिवार को विधानसभा रोड इलाके से आबकारी विभाग की टीम ने 8 लाख की अवैध शराब पकड़ी थी। इसमें 2000 बोतल गोवा व्हिस्की थी। बोतलों पर सेल इप मध्यप्रदेश लिखा था। इसके अलावा खाली बोतलें, ढक्कन, ढक्कन सील करने की मशीन सहित खाली कार्टून जब्त किए गए थे। इस मामले में आरोपी सतनाम सिंह ( 42) को पकड़ा गया। जानकारी मिली थी कि ये शख्स अपने घर में ही शराब की बॉटलिंग और सीलिंग का काम करता था फिर इसे बेचता था। ये काम पिछले कई सालों से जारी था, मगर तब कार्रवाई क्यों नहीं हुई इसका जवाब देने से आबकारी विभाग के अफसर बच रहे हैं।

खबरें और भी हैं...