• Hindi News
  • Local
  • Chhattisgarh
  • Raipur
  • In Chhattisgarh, For The First Time After 355 Days, No Patient Died Of Corona, Meanwhile 13449 People Lost Their Lives Chhattisgarh Corona Cases District Wise Today News; Korba Durg Bilaspur Rajnandgaon

कोरोना से शून्य मौत:छत्तीसगढ़ में 355 दिन बाद किसी मरीज की मौत नहीं, लेकिन इस बीच 13,449 लोगों की जान चली गई

रायपुर3 महीने पहले
प्रदेश में संक्रमण का पहला मामला रायपुर में 18 मार्च 2020 को सामने आया और 29 जून पहली मौत दर्ज हुई। तब से अभी तक 13478 मरीजों की मौत हो चुकी है।

कोरोना से बुरी तरह प्रभावित रहे छत्तीसगढ़ के लिए सोमवार का दिन थोड़ा राहत भरा रहा। स्वास्थ्य विभाग के मुताबिक कोरोना से एक भी मरीज की मौत नहीं हुई। इससे पहले 22 जुलाई 2020 को मौत का आंकड़ा शून्य रहा था। इन 355 दिनों में प्रदेश के 13,449 लोगों की जान इस महामारी की वजह से जा चुकी है। स्वास्थ्य विभाग की ओर से देर रात जारी आंकड़ों के मुताबिक सोमवार को 36,056 सैंपल की जांच में 297 व्यक्ति कोरोना संक्रमित पाए गए।

स्वास्थ्य विभाग के दैनिक बुलेटिन में इससे पहले 14 फरवरी 2021 को शून्य मौत दर्ज है। बाद में अपडेट आंकड़ों के मुताबिक 14 फरवरी को भी एक मरीज की मौत हुई थी। इससे पहले 22 जुलाई 2020 को शून्य मौत दर्ज हुई थी। वहीं 268 लोगों में संक्रमण की पुष्टि हुई। जबकि तब तक 29 की मौत हो चुकी थी। प्रदेश में संक्रमण का पहला मामला रायपुर में 18 मार्च 2020 को सामने आया था और 29 जून को पहली मौत दर्ज हुई। तब से अभी तक 13,478 मरीजों की मौत हो चुकी है।

सितम्बर 2020 में था पहली लहर का पीक

छत्तीसगढ़ में कोरोना की पहली लहर का पीक सितम्बर 2020 में आया था। उस दौरान प्रतिदिन औसतन 2400 से 2600 नए मामले सामने आ रहे थे। 18 सितम्बर को सबसे अधिक 3 हजार 842 मामले सामने आए थे। पहली लहर के सबसे संक्रामक दौर में प्रतिदिन हो रही मौतों का औसत 20 से 25 तक का था।

अप्रैल 2021 में दूसरी लहर ने बरपाया कहर

मार्च 2021 में कोरोना की दूसरी लहर ने दस्तक दी। मार्च के दूसरे सप्ताह से मरीजों की संख्या में अचानक वृद्धि देखी जाने लगी। अप्रैल महीने में संक्रमण का पीक आया है। इस दौरान औसतन 12 हजार से 13 हजार मरीज रोज मिल रहे थे। 18 अप्रैल को तो प्रदेश भर में सबसे अधिक 17 हजार 397 मरीज सामने आए थे। कोरोना की दूसरी लहर के दौरान एक दिन में सर्वाधिक मौत 27 अप्रैल को दर्ज हुआ। उस दिन 279 मरीजों की मौत हुई थी।

जांजगीर-चांपा, सुकमा, बस्तर, बीजापुर और रायपुर सर्वाधिक संक्रमित

स्वास्थ्य विभाग के मुताबिक प्रदेश के 8 जिलों में यह दर एक प्रतिशत से लेकर अधिकतम 2.72 प्रतिशत तक है। बस्तर संभाग के तीन जिलों के अलावा जांजगीर-चांपा और रायपुर जिले सर्वाधिक संक्रमित हैं। जांजगीर-चांपा जिले में सोमवार को सर्वाधिक 38 लोगों में संक्रमण की पुष्टि हुई। वहीं सुकमा में 35, बस्तर में 34, बीजापुर में 24 और रायपुर जिले में 18 मरीजों का पता चला।

जांच बढ़ी तो बढ़ गए मरीज, हर जिले में संक्रमण

रविवार 22 हजार 479 नमूनों के जांच की तुलना में सोमवार को 36 हजार 56 नमूनों की जांच हुई। ऐसे में संक्रमितों की संख्या रविवार के 188 की तुलना में बढ़कर 297 हो गई। बालोद, बेमेतरा, कबीरधाम, गौरेला-पेण्ड्रा-मरवाही में केवल एक-एक मरीज मिले। वहीं राजनांदगांव, महासमुंद और मुंगेली जिलों में मरीजों की संख्या 2-2 रही। स्वास्थ्य विभाग के मुताबिक 20 जिलों में संक्रमण की दर अब एक प्रतिशत से भी नीचे पहुंच गई है। राज्य में वर्तमान में कुल पॉजिटिव मरीजों की संख्या 4517 है।

खबरें और भी हैं...