टॉपर्स की कहानी:मजदूर पिता की बेटी कुंति बनी 12वीं की स्टेट टॉपर; रोज 5 घंटे की प्रैक्टिस से सुमन ने 10वीं में किया टॉप

रायपुरएक महीने पहले

शनिवार को 10वीं और 12वीं के नतीजे जारी कर दिए गए। 12वीं की मेरिट लिस्ट में सबसे ऊपर नाम है कुंति का। रायगढ़ की रहने वाली कुंति काे 500 नंबर की परीक्षा में 491 मार्क्स मिले हैं। अपने हुनर के दम पर कुंति लाखों में एक साबित हुई है। इस साल 12वीं की परीक्षा पूरे प्रदेश के 2 लाख 87 हजार 673 बच्चों ने दी। इन सभी में कुंति ने 98.20 % के साथ टॉप किया है।

कुंति रायगढ़ के बड़े हल्दी इलाके में रहती है। कुंति के स्कूल प्रिंसिपल घनश्याम साहू ने बताया कि कुंति के पिता परमेश्वर साव ऊफ परसू पेशे से मजदूर हैं। हर सुबह वो काम की तलाश में निकलते हैं, कभी ऐसा भी होता है कि रोजी नहीं मिलती। मगर परिवार के हालत कुंति के हौसलों को कभी डिगा नहीं सके। घनश्याम ने बताया कि हमारे स्कूल आदर्श ग्राम भारती शाला में सबसे टैलेंटेड बच्ची कुंति ही है। उसने 10वीं में भी टॉप किया था।

कुंति के पिता पेशे से मजदूर हैं।
कुंति के पिता पेशे से मजदूर हैं।

कुंति हर क्लास टेस्ट और पुरानी परीक्षाओं में भी फुल मार्क्स के साथ पास होती रही है। पढ़ाई में उसकी लगन को देखकर स्कूल के प्रिंसिपल घनश्याम ने उसकी ट्यूशन फीस माफ कर दी थी। वह हर रोज 7 किलोमीटर दूर साइकिल चलाकर पुसौर में अपने स्कूल आती थी। अब सुबह से ही कुंति को बधाई देने लोग मिलने पहुंच रहे हैं और फोन कॉल्स पर जिला शिक्षा अधिकारी ने भी बधाई दी है।

टॉपर सोनाली।
टॉपर सोनाली।

नक्सल इलाके की बेटी बनी टॉपर
कांकेर की रहने वाली सोनाली बाला ने दसवीं में 98.67 मार्क्स के साथ टॉप किया है। कांकेर के नक्सल प्रभावित गांव गोण्डाहुर की छात्रा सोनाली बाला की कामयाबी पूरे गांव के लिए गर्व का विषय बन चुकी है। इस स्टूडेंट ने 592 अंक के साथ टॉप किया। सोनाली, गोण्डाहुर गांव के शासकीय स्कूल में पढती है। सोनाली ने बताया कि अंदरूनी इलाका होने के कारण पढाई में कई तरह की दिक्कतें आती थी, हमारे गांव मंे बिजली कभी भी गुल हो जाती है। ऐसे में पढ़ाई में भी खासी दिक्कते आती थी। अब आगे सोनाली 11वीं में बायोलॉजी लेकर पढाई करना चाहती है। साथ ही डॉक्टर बनकर अपने पिछड़े हुए क्षेत्र के लोगो की सेवा करना चाहती हैं।

सुमन प्रैक्टिस से बनी परफेक्ट
10वीं की दूसरी टॉपर सुमन को 98.67 मार्क्स मिले हैं। सुमन के पिता देव कुमार पटेल पेशे से शिक्षक हैं। सुमन को बचपन से ही घर पर पढ़ाई का अच्छा माहौल मिला। सुमन के पिता ने बताया कि बेटी इस बार की परीक्षा में अच्छा करेगी मुझे पता था मगर स्टेट में टॉप करना हमारे लिए गर्व की बात है। मैं कुछ काम से घर से बाहर गया था मुझे फोन आने लगे लोगों ने बताया कि बेटी ने टॉप किया है मैं घर लौटा और बेटी का मुंह मीठा करवाया। सुमन ने हर रोज 5 घंटे आंसर लिखने की प्रैक्टिस की। हर सबजेक्ट की लर्निंग को पूरा किया। अब वो आगे बायो और मैथ्स जैसे विषय पढ़ना चाहती है।

12वीं की मेरिट लिस्ट

10वीं की मेरिट लिस्ट

यहां देखें रिजल्ट
स्टूडेंट्स रिजल्ट मण्डल की वेबसाइट https://www.cgbse.nic.in और https://www.results.cg.nic.in पर देख सकेंगे।