पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

कोरोना का कहर:कोरोना की दूसरी लहर में मरीज ज्यादा, 3 फीसदी यानी 77 हजार लोग दूसरी बार संंक्रमित हुए

रायपुर14 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

राजधानी रायपुर में पहली लहर के एक साल के अधिक के वक्त में जितने केस मिले, उससे दूसरी लहर के केवल एक माह में ज्यादा केस मिल चुके हैं। यही नहीं पहली लहर में जहां आउटर के इलाके में कम संक्रमित मिल रहे थे, दूसरी लहर में इस ट्रेंड में भी बदलाव आ गया है। अप्रैल के पूरे माह और मई की शुरूआत में आउटर के इलाके में भी लगातार केस में इजाफा हुआ है।

मरीजों का इलाज कर रहे डाक्टरों के मुताबिक दूसरी लहर के ट्रेंड में एक बड़ा बदलाव ये भी रहा है कि इसमें अब तक तकरीबन 3 प्रतिशत केस ऐसे अाए, जो दूसरी बार कोरोना पॉजिटिव हुए हैं। यानी राजधानी में मिले 77 हजार से ज्यादा केसों में 2 हजार से अधिक ऐसे केस रहे हैं जो दूसरी बार कोरोना की जद में आए हैं। दरअसल, पहली लहर में 18 मार्च से इस साल 31 मार्च के बीच रायपुर में केवल 65672 केस निकले। जबकि अप्रैल में दूसरी लहर के दौरान अब तक साढ़े 77 हजार से अधिक केस मिल चुके हैं।

पहली लहर की तुलना में ये आंकड़ा करीब 12 हजार अधिक रहा है। यही नहीं, अभी दूसरी लहर पूरी तरह खत्म भी नहीं हुई है। जानकारों का मानना है कि दूसरी लहर का खात्मा नए संक्रमितों की रोजाना तादाद और एक्टिव मरीजों के ग्राफ में जब फ्लैट की स्थिति यानी सीधे शब्दों में केस में कमी आ जाएगी, तब माना जाएगा। यही नहीं दूसरी लहर मौत के आंकड़ों के लिहाज से भी भारी रही है। पहली लहर में जहां पूरे एक साल की अवधि में 905 मौत हुई। वहीं दूसरी लहर के दौरान ये आंकड़ा केवल अप्रैल-मई के शुरूआत में 15 सौ से अधिक रहा है।

केवल घने शहर ही नहीं, इस बार आउटर में भी केस ज्यादा
केवल घने शहर ही नहीं, इस बार आउटर में भी केस ज्यादा

राजधानी के लालपुर कोरोना केयर सेंटर के इंचार्ज डॉ. प्रशांत साहू के मुताबिक दूसरी लहर के ट्रेंड में एक बड़ा बदलाव ये भी रहा है कि इसमें अब तक तकरीबन 3 प्रतिशत केस ऐसे रहें हैं जो दूसरी बार कोरोना पॉजिटिव हुए हैं। यानी राजधानी में मिले 77 हजार से ज्यादा केसों में 2 हजार से अधिक ऐसे केस रहे हैं जो दूसरी बार कोरोना की जद में आए हैं।

डॉ. प्रशांत साहू के मुताबिक दूसरी बार संक्रमित होने वाले ऐसे लोग जिन्होंने वैक्सीन का पहला या दूसरा डोज लिया उनके स्वस्थ होने की रफ्तार काफी अच्छी रही है। इक्का दुक्का मामलों को छोड़ दें तो डेथ के मामले इनमें न के बराबर रहे हैं। दूसरी बार संक्रमित हुए ज्यादातर लोगों में 35 से 60 साल के आयु समूह के ऐसे लोग रहे हैं, जिनका एक्सपोजर किन्हीं कारणों से बाहर निकलने के कारण ज्यादा रहा है।

आउटर में केस ज्यादा निकले
पहली लहर में रायपुर जिले में मिले 65 हजार से अधिक केस में आउटर के इलाकों में मिले केस का प्रतिशत 20 प्रतिशत के आसपास रहा। जबकि दूसरी लहर में मिले 77 हजार से ज्यादा केस में आउटर के इलाकों में ये प्रतिशत 34 से अधिक हो गया है। यही नहीं अप्रैल के आखिरी हफ्ते में रायपुर में मिले 22 हजार से ज्यादा केसों में 9 हजार से अधिक केस आउटर के इलाकों से निकले हैं। जानकारों के मुताबिक दूसरी लहर का असर शहरी और ग्रामीण दोनों क्षेत्र पर एक समान रहा है। इस बार गांव में भी थोक में मरीज निकल रहे हैं। जबकि पहली लहर में बहुत से गांव ऐसे रहे जहां एक भी केस नहीं निकला।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- समय अनुसार अपने प्रयासों को अंजाम देते रहें। उचित परिणाम हासिल होंगे। युवा वर्ग अपने लक्ष्य के प्रति ध्यान केंद्रित रखें। समय अनुकूल है इसका भरपूर सदुपयोग करें। कुछ समय अध्यात्म में व्यतीत कर...

    और पढ़ें