ड्राइविंग प्रशिक्षण का नया ठिकाना:नवा रायपुर में तैयार हुआ 'इंस्टीट्यूट ऑफ ड्राइविंग एंड ट्रैफिक रिसर्च'; मुख्यमंत्री 9 दिसंबर को करेंगे लोकार्पण

रायपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
यह प्रशिक्षण संस्थान काफी समय से बन रहा था। - Dainik Bhaskar
यह प्रशिक्षण संस्थान काफी समय से बन रहा था।

छत्तीसगढ़ विश्व स्तरीय ड्राइविंग प्रशिक्षण का नया ठिकाना बनने वाला है। इसके लिए नवा रायपुर में इंस्टीट्यूट ऑफ ड्राइविंग एण्ड ट्रैफिक रिसर्च बनकर तैयार है। इस संस्थान में ट्रक, बस, डंपर जैसे बड़े वाहनों के साथ गैर व्यावसायिक मध्यम और हल्के वाहनों को भी चलाने का प्रशिक्षण दिया जाएगा। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल 9 दिसंबर को एक समारोह में इस संस्थान का लोकार्पण करेंगे।

परिवहन विभाग के अधिकारियों ने बताया कि इंस्टीट्यूट की स्थापना 17 करोड़ रुपए की लागत से नवा रायपुर के तेंदुआ गांव में की गई है। यह 20 एकड़ में बनाया गया है। संस्थान में मारुति सुजुकी कंपनी के विशेषज्ञ प्रशिक्षक ड्राइविंग का प्रशिक्षण देंगे। यहां ट्रक, बस जैसे बड़े वाहनों को चलाने के लिए 30 दिन की ट्रेनिंग मिलेगी। वहीं नॉन इनर्शियल वाहनों को चलाने के लिए 21 दिन का ट्रेनिंग कोर्स है।

इस संस्थान में प्रशिक्षण के लिये इस तरह के ट्रैक बनाए गए हैं।
इस संस्थान में प्रशिक्षण के लिये इस तरह के ट्रैक बनाए गए हैं।

संस्थान में प्रशिक्षण के लिए 5 स्मार्ट क्लास रूम बनाए गए हैं, जहां एक साथ लगभग 250 लोगों को प्रशिक्षण दिया जा सकता है। प्रशिक्षणार्थियों को ट्रैफिक नियमों और अन्य रोड सेफ्टी मैनुअल से अवगत कराया जाएगा। इस आवासीय संस्थान में एक साथ 80 प्रशिक्षुओं के ठहरने की व्यवस्था की गई है। ट्रेनिंग पूरी करने के बाद छात्रों को लाइसेंस तुरंत बनाकर दिया जाएगा। इसके साथ ही हैवी वाहन चलाने वालों को प्रदेश की फैक्ट्रियों में नौकरी दिलाने में सहायता की जाएगी।

सिमुलेटर पर हर परिस्थिति का प्रशिक्षण

प्रशिक्षणार्थियों को यहां अत्याधुनिक तकनीक वाले सिमुलेटर के जरिए प्रशिक्षण दिया जाना है। हल्के वाहनों के लिए एलएमवी सिमुलेटर और भारी वाहनों के लिए एचएमवी सिमुलेटर की सुविधा उपलब्ध है। ड्राइविंग के वक्त आने वाली कठिन परिस्थितियों जैसे बारिश, आंधी, तूफान इत्यादि से परिचित कराने के लिए रियल टाईम सिमुलेटर भी लगाया गया है।

मोटर की कार्यप्रणाली से ट्रैक और पार्किंग तक का प्रशिक्षण

संस्थान में वाहन के टेक्निकल आक्सपेक्ट को समझाने के लिए टेक्निकल लैब बना है। यहां इंजन, ब्रेक और अन्य पार्ट्स की वर्किंग को लाइव मॉडल के द्वारा समझाया जाएगा। प्रशिक्षण के लिए अलग-अलग तरह के ट्रैक बनाए गए हैं। इनकी मदद से प्रशिक्षु अलग-अलग तरह की परिस्थितियों में बेहतर ड्राइविंग सीख सकें। यहां आठ आकृति वाले ट्रैक ग्रेडीयंट, रिवर्स पार्किंग, लेन चेंजिंग्स का प्रशिक्षण दिया जाएगा।

खबरें और भी हैं...