जुटे देश के IPO एक्सपर्ट:कारोबारियों में गलतफहमी कि शेयर बाजार में कंपनी लिस्ट हुई तो मालिक कोई और बनेगा, ये पूंजी बढ़ाता है

रायपुर5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
IPO कॉन्क्लेव में आए कारोबारी। - Dainik Bhaskar
IPO कॉन्क्लेव में आए कारोबारी।

छत्तीसगढ़ में इंडस्ट्रीयल ग्रोथ तेजी से हो रही है। इसके मद्देनजर अब मेट्रो सिटीज के तर्ज पर यहां शेयर ट्रेडिंग का रुझान भी बढ़ा है। इसे ध्यान में रखकर जयपुर की फायनेंशियल सर्विस कंपनी हेम सिक्योरिटी ने रायपुर के एक होटल में IPO कॉन्क्लेव आयोजित किया। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि सारडा एनर्जी के MD कमल सारडा थे।

कार्यक्रम के दौरान एक्सपर्ट्स
कार्यक्रम के दौरान एक्सपर्ट्स

इस दौरान IPO एक्सपर्ट ने छत्तीसगढ़ के दर्जनों करोबारी घरानों से आए बिजनेस मैन के कंफ्यूजन दूर किए। यहां कारोबारियों के साथ हुई बात-चीत में सभी ने एक सवाल किया कि शेयर मार्केट में कंपनी लिस्ट करने से मालिक कोई और बन जाता है ? कमल सारडा और एक्सपर्ट गौरव जैन ने इसका जवाब देते हुए बताया कि ऐसा नहीं है, IPO यानी कि शेयर बाजार में कंपनी लिस्ट होने पर 25 प्रतिशत हिस्सा ही दूसरे इंवेस्टर्स के पास जाता है। 75 प्रतिशत की हिस्सेदारी कंपनी के मालिक के पास ही रहती है।

ब्याज पर रकम लेने से बेहतर IPO लिस्टिंग
एक्सपर्ट गौरव जैन ने बताया कि छोटे कारोबारियों में इस बात की जानकारी नहीं है कि IPO लिस्टिंग के जरिए वो अपनी कैपिटल को बढ़ा सकते हैं। अब तक कारोबारी अपने काम को आगे ले जाने के लिए लोन लेते रहे हैं या ब्याज पर रकम उधार लेकर काम को आगे बढ़ा रहे हैं। IPO लिस्टिंग से जब लोग शेयर खरीदते हैं तो सीधे तौर पर कंपनी का कैपिटल बढ़ता है। उन्होंने बताया कि रायपुर के एक कारोबारी समूह ने 3 महीने पहले ही खुद को रजिस्टर किया और 35 परसेंट उनकी वेल्थ में ग्रोथ है।

IPO क्या है
आईपीओ को इनिशियल पब्लिक ऑफरिंग (INITIAL PUBLIC OFFERING) कहते हैं। दरअसल जब कोई कंपनी पहली बार अपने शेयर पब्लिक को ऑफर करती है तो इसे IPO कहते हैं। इस प्रक्रिया में कंपनियां अपने शेयर आम लोगो को ऑफर करती है और यह प्राइमरी मार्केट के अंतर्गत होता है। अगर ज्यादा साधारण तरह से जानना है तो कहेगें कि आईपीओ के जरिए कंपनी फंड इकट्ठा करती है और उस फंड को कंपनी की तरक्की में खर्च करती है। बदले में आईपीओ खरीदने वाले लोगों को कंपनी में हिस्सेदारी मिल जाती है, मतलब जब आप किसी कंपनी के शेयर खरीदते है तो आप उस कंपनी के खरीदे गए हिस्से के मालिक होते हैं।

खबरें और भी हैं...