सरकार का एक्शन शुरू:मूक-बधिर बच्चियों के साथ चौकीदार-केयरटेकर की ज्यादती पर जशपुर और पंडो जनजाति की मौत मामले में बलरामपुर कलेक्टर की छुट्‌टी

रायपुर4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सामान्य प्रशासन विभाग ने जशपुर और बलरामपुर सहित तीन जिलाें के कलेक्टर बदल दिए हैं। - Dainik Bhaskar
सामान्य प्रशासन विभाग ने जशपुर और बलरामपुर सहित तीन जिलाें के कलेक्टर बदल दिए हैं।

दिव्यांग छात्रावास में मूक-बधिर बच्चियों के साथ दुष्कर्म और यौन उत्पीड़न की घटना के बाद राज्य सरकार ने आज जशपुर कलेक्टर महादेव कावड़े की छुट्‌टी कर दी। उन्हें वहां से हटाकर मंत्रालय बुला लिया गया है। अब वह जल संसाधन विभाग के विशेष सचिव की जिम्मेदारी संभालेंगे।

2008 बैच के आईएएस महादेव कावड़े की जगह 2012 बैच के रितेश कुमार अग्रवाल को जशपुर का कलेक्टर बनाया जा रहा है। रितेश कुमार अग्रवाल अभी बीजापुर कलेक्टर हैं। रायगढ़ के अपर कलेक्टर राजेंद्र कुमार कटारा को बीजापुर का कलेक्टर बनाकर भेजा जा रहा है। कटारा 2013 बैच के आईएएस अफसर हैं। वहीं, पंडो जनजाति के लोगों की लगातार हो रही मौत से किरकिरी झेल रही सरकार ने बलरामपुर कलेक्टर की भी छुट्‌टी कर दी है। वहां से 2013 बैच के आईएएस इंद्रजीत सिंह चंद्रवाल को हटाकर संस्कृति एवं पर्यटन विभाग में सचिव बना दिया गया है। चंद्रवाल की जगह अब 2014 बैच के कुंदन कुमार बलरामपुर-रामानुजगंज जिले के कलेक्टर होंगे। कुंदन अभी कोरबा जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी हैं। सामान्य प्रशासन विभाग ने आज तीन कलेक्टरों को बदलने के आदेश जारी कर दिए।

दिव्यांग केंद्र में दरिंदगी के बाद जागी सरकार:सभी कलेक्टर और SP को छात्रावासों के निरीक्षण का आदेश; CM ने कहा- लापरवाह अफसरों-कर्मचारियों को सस्पेंड कर FIR कराएं

22 सितम्बर को छात्रावास में एक बच्ची का रेप हुआ था

आरोप है, जशपुर के समर्थ दिव्यांग केंद्र में 22 सितंबर की रात करीब 11 बजे शराब के नशे में धुत केयर टेकर राजेश राम और चौकीदार नरेंद्र भगत ने मूक-बधिर बच्चों से मारपीट और अश्लील हरकतें की। उनके कपड़े फाड़ दिए। बच्चे जान बचाने के लिए नग्न हालत में कैंपस में भागते रहे। चौकीदार ने 15 साल की एक बच्ची से दुष्कर्म किया। जबकि 5 बच्चियों से यौन उत्पीड़न किया गया। केंद्र का संचालन खनिज न्यास मद के तहत राजीव गांधी शिक्षा मिशन की ओर से किया जाता है।

छात्रावास अधीक्षक निलंबित, दोनों आरोपी गिरफ्तार

मामला सामने आने के बाद केस दर्ज हुआ और पुलिस ने आरोपी केयर टेकर और चौकीदार को गिरफ्तार कर लिया। सामने आया कि इस केंद्र में अधीक्षक रात में नहीं रहते थे। अफसरों ने कई दिनों से छात्रावास की ओर झांका तक नहीं था। इसकी वजह से चौकीदार और केयर टेकर इस घिनौनी हरकत को अंजाम दे पाए। सरकार ने 3 दिन बाद केंद्र के अधीक्षक संजय राम को निलंबित कर दिया। राजीव गांधी शिक्षा मिशन के जिला समन्वयक विनोद पैकरा को शोकॉज नोटिस जारी किया गया है। हालांकि संजय राम ने कहा था, कि वे दो साल से कई बार खुद को हॉस्टल से हटाने के लिए पत्र लिख चुके हैं, क्योंकि वे साइन लैंग्वेज नहीं जानते और उनके पास पहले से 2 और प्रभार हैं।

खबरें और भी हैं...