खैरागढ़ में JCCJ छठवें नंबर पर:जिस पार्टी के पास सीट थी उसके प्रत्याशी को केवल 1218 वोट मिले, NOTA और निर्दलीय उम्मीदवार को इनसे अधिक मिले

रायपुर10 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ ने सहानुभूति वोटों के सहारे वापसी की कोशिश की थी, लेकिन यह दांव उल्टा पड़ गया। - Dainik Bhaskar
जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ ने सहानुभूति वोटों के सहारे वापसी की कोशिश की थी, लेकिन यह दांव उल्टा पड़ गया।

खैरागढ़ विधानसभा उप चुनाव के नतीजे आ गए हैं। कांग्रेस उम्मीदवार यशोदा वर्मा ने भाजपा के कोमल जंघेल को 20 हजार से अधिक वोटों के अंतर से हराया है। सबसे बुरी हालत यहां जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (JCCJ) के प्रत्याशी की हुई है। उनको केवल एक हजार 208 लोगों के ही वोट मिले हैं। NOTA, अनाम से राजनीतिक दल- फाॅरवर्ड डेमोक्रिटिक लेबर पार्टी (FDLP) और एक निर्दलीय प्रत्याशी को उनसे भी अधिक वोट मिले।

खैरागढ़ विधानसभा उपचुनाव के लिए 12 अप्रैल को मतदान हुआ था। इसमें कुल 2 लाख 11 हजार 516 को वोट डालना था। लेकिन 78.39% लोग ही मतदान के लिए पहुंचे। यानी एक लाख 65 हजार 407 लोगों ने ही इस चुनाव में वोट डाला था। इनमें से कांग्रेस उम्मीदवार यशोदा वर्मा के पक्ष में 87 हजार 640 वोट पड़े। भाजपा प्रत्याशी कोमल जंघेल को 67 हजार 481 लोगों ने वोट डाला। उसके बाद सबसे अधिक दो हजार 607 वोट NOTA को पड़े हैं। यानी इस उप चुनाव में NOTA तीसरे नंबर पर रहा। चौथे स्थान पर फाॅरवर्ड डेमोक्रिटिक लेबर पार्टी (FDLP) के चूरन (विप्लव साहू) रहे। उनको दो हजार 408 मतदाताओं का समर्थन मिला। वहीं निर्दलीय उम्मीदवार नितिन कुमार भांडेकर को भी एक हजार 409 वोट मिल गए। जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (JCCJ) के उम्मीदवार नरेंद्र सोनी को केवल एक हजार 208 वोट मिले हैं। यहां शेष पांच उम्मीदवारों को एक हजार से भी कम वोट से संतोष करना पड़ा है।

2018 में 36%वोट शेयर के साथ जीती थी JCCJ

छत्तीसगढ़ विधानसभा के लिए 2018 में हुए आम चुनाव में जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (JCCJ) ने देवव्रत सिंह को मैदान में उतारा था। खुद के जनाधार और JCCJ और BSP के संगठन की मदद से देवव्रत सिंह को 61 हजार 576 वोट मिले थे। यह कुल पड़े वोटों का 36% था। भाजपा उम्मीदवार कोमल जंघेल उस चुनाव में दूसरे स्थान पर आए। उन्हें 60 हजार 646 वोट मिले थे। वहीं कांग्रेस के सीटिंग विधायक गिरवर जंघेल तीसरे स्थान पर खिसक गए थे।

राजपरिवार का भी समर्थन नहीं मिला

विधायक देवव्रत सिंह के निधन के बाद खैरागढ़ राजपरिवार में कई तरह के विवाद खड़े हुए। देवव्रत सिंह के रहते संगठन ने नेतृत्व की दूसरी लाइन वहां खड़ा ही नहीं किया था। विधायक के असमय निधन के बाद चुनाव हुए ताे जनता कांग्रेस ने सहानुभूति के सहारे वापसी की कोशिश की। जकांछ ने देवव्रत सिंह के बहनाई नरेंद्र सोनी को मैदान में उतारा। कोशिश थी कि इसके सहारे राजपरिवार समर्थक वोट को एकजुट किया जाए। लेकिन यह संगठन पर भारी पड़ गया। कई स्थानीय नेता प्रत्याशी के नाम पर प्रचार से पीछे हट गए। ग्रामीण क्षेत्रों में सीमित पहचान और संसाधनों के अभाव में जकांछ अपनी बात को लेकर बड़े वर्ग तक नहीं पहुंच पाई।

अमित जोगी ने कहा, परिणामों पर आत्मचिंतन करेंगे

जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ के अध्यक्ष अमित जोगी ने कहा, इस चुनाव में जनता ने नये जिले और राजा देवव्रत सिंह के सम्मान के उनके उठाए मुद्दों पर ही मोहर लगाई है। यह हमारी नैतिक जीत है। चुनाव परिणाम ऐसे क्यों आए उसपर हम आत्मचिंतन करेंगे। अमित जोगी ने कहा, इस चुनाव के बहाने उनकी पार्टी की एकता फिर से कायम हुई है। उनका विधायक दल आज एक है। इसी एकता के साथ हम लोग 2023 के विधानसभा चुनाव में पूरी ताकत से जनता के बीच जाएंगे।

खैरागढ़ उपचुनाव में कांग्रेस की जीत:यशोदा वर्मा ने BJP उम्मीदवार कोमल जंघेल को 20 हजार वोटों से दी शिकस्त; जमानत नहीं बचा सके JCCJ प्रत्याशी

चुनाव से ठीक पहले खैरागढ़ का हाल:कांग्रेस के जिला बनाने के वादे का माहौल, भाजपा के पास अभी कोई तोड़ नहीं, JCCJ को लेकर खामोशी

खैरागढ़ में सबसे बड़ी चुनावी सरगर्मी:हर तीन किमी पर सीएम की सभा;मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री,केंद्रीय मंत्री तक का जनसंपर्क अभियान जारी

खबरें और भी हैं...