CG के नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक बोले:अपनी वंशावली बताएं राहुल गांधी, वह हिंदुओं से डरते हैं; देश जानता है असली कौन, नकली कौन

रायपुर3 महीने पहले
नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि राहुल गांधी को संघ और भाजपा के विषय में कुछ भी कहने का अधिकार नहीं है।

कांग्रेस की महिला इकाई की स्थापना दिवस के दिन संघ पर दिए राहुल गांधी के बयान के बाद राजनीति गरमा गई है। नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक ने कहा कि राहुल गांधी को संघ और भाजपा के विषय में कुछ भी कहने का अधिकार नहीं है। उन्हें तो अपने परिवार की वंशावली को सबके सामने रखना चाहिए। यह समूचा राष्ट्र जानना चाहता है। जिस पर वे हमेशा मौन रहते हैं। संघ अपनी स्थापना की शताब्दी 2025 में पूर्ण करने जा रहा है। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के असंख्य कार्यकर्ता निस्वार्थ भाव से कार्यरत हैं। इस कारण ही हमारी सनातन संस्कृति को मजबूत आधार मिला है।

कौशिक ने आगे कहा कि हमें राहुल गांधी के प्रमाण पत्र की जरूरत नहीं है। असली हिंदू कौन है और कौन नकली। 2014 और 2019 के चुनावों में जनता जवाब दे चुकी है। आने वाले चुनावों में भी जनता जवाब दे देगी। हिंदुओं पर इस तरह से राहुल गांधी नहीं बोल रहे हैं, ये उनका हिंदुओं के प्रति डर बोल रहा है। राहुल गांधी हिंदुओं से डरते हैं। भाजपा और संघ से पूछने की बजाय अपनी वंशावली बतानी चाहिए, देश जानता है कौन असली हिंदू है और कौन फर्जी।

राहुल के इस बयान पर हुआ था बवाल
कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने बुधवार को राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) और BJP पर निशाना साधा था। उन्होंने कहा कि ये लोग हिंदू नहीं हैं, ये सिर्फ हिंदू धर्म का इस्तेमाल करते हैं। उन्होंने कांग्रेस की महिला इकाई ‘अखिल भारतीय महिला कांग्रेस’ के स्थापना दिवस समारोह में कहा था कि RSS और BJP के लोग ‘महिला शक्ति’ को दबा रहे हैं और भय का माहौल पैदा कर रहे हैं। राहुल गांधी ने नोटबंदी और GST का जिक्र करते हुए कहा कि नरेंद्र मोदी सरकार ने ‘लक्ष्मी की शक्ति’ और ‘दुर्गा की शक्ति’ पर आक्रमण किया है। ये लोग झूठे हिंदू हैं, ये लोग हिंदू नहीं हैं।

अपराध से गढ़ा जा रहा नवा छत्तीसगढ़
नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक ने अपने बयान में राष्ट्रीय अपराध ब्यूरो की वार्षिक रिपोर्ट का छत्तीसगढ़ के संदर्भ में जिक्र किया। उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ की छवि अपराधगढ़ के रूप में पूरे देश में बन रही है, जो बेहद ही चिंताजनक है। उन्होंने कहा कि अपराध का नवा छत्तीसगढ़ गढ़ा जा रहा है। इसके लिए पूरी तरह से कांग्रेस सरकार जिम्मेदार है।

हाल ही में सामने आई क्राइम रिपोर्ट के मुताबिक, साल 2020 के आंकड़ों पर गौर करें तो दुष्कर्म के मामलों में बिहार से आगे छत्तीसगढ़ निकल चुका है। प्रदेश में 2019 में दुष्कर्म के 1036 मामले दर्ज किए गए हैं, जबकि 2020 में 1210 मामले दर्ज हुए हैं, इन दो सालों में बिहार में 730 और 806 मामले दर्ज हुए। छत्तीसगढ़ में साल 2020 में हर दिन तकरीबन 3 दुष्कर्म की वारदातें हो रही हैं।

खबरें और भी हैं...