जल्दी अमीर बनने के चक्कर में गए जेल:कोरिया में दोस्त ने तेंदुए की खाल दी, तो रायपुर के कारोबारी को 10 लाख रुपए में बेचने निकले; ग्राहक बनकर पहुंची पुलिस, 2 गिरफ्तार

रायपुर4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
माना पुलिस इन युवकों के फोन की जांच कर इस पूरे रैकेट के पीछे शामिल लोगों तक पहुंचने की कोशिश में है। - Dainik Bhaskar
माना पुलिस इन युवकों के फोन की जांच कर इस पूरे रैकेट के पीछे शामिल लोगों तक पहुंचने की कोशिश में है।

रायपुर की माना पुलिस ने बुधवार रात दो युवकों को पकड़ा है। इनके पास से तेंदुए की खाल मिली है। पकड़े गए आरोपी स्कूटर से खाल बेचने की फिराक में थे। पुलिस ने आरोपियों के पास मौजूद सूटकेस से खाल बरामद की है। पकड़े गए दोनों आरोपी रायुपर के तेलीबांधा निवासी निखिल कुमार और बलौदाबाजार निवासी मनीष अग्रवाल हैं। दोनों को गुरुवार को जेल भेज दिया गया।

माना की पुलिस को निखिल और उसका साथी अपनी स्कूटर पर बैग लादे दिखे। सादे कपड़ों में दो अफसर टहलते हुए इनके पास गए। बातों-बातों में पूछ लिया कुछ खास सामान है क्या, निखिल ने कहा हां। दूर खड़ी टीम को अफसरों ने इशारा कर दिया। निखिल और उसके साथी ने भागने की कोशिश भी की मगर धर लिए गए। जांच टीम ने सूटकेस खुलवाया तो इसमें तेंदुए की खाल रखी मिली।

रायपुर के किसी कारोबारी को बेचने वाले थे खाल
अब तक हुई जांच में पता चला है कि रायपुर के किसी रईस कारोबारी को खाल 10 लाख में बेची जानी थी। पुलिस गिरफ्तार हुए युवकों से उस कारोबारी के बारे में भी पूछताछ कर रही है। फिलहाल खरीदार का खुलासा नहीं हो सका है। युवकों ने बताया कि वो वीआईपी रोड इलाके में इसी वजह से आए थे कि डील हो सके। युवकों का फोन बरामद कर पुलिस उसकी भी जांच कर रही है ताकि खुलासा हो सके।

कोरिया के दोस्त ने दिखाया जल्दी अमीर बनने का सपना
गिरफ्तार हुए युवक निखिल ने बताया कि तेंदुए के शिकार में वो शामिल नहीं थे। उन्हें यह नहीं पता कि तेंदुआ किसने मारा। निखिल ने ने बताया कि कोरिया में रहने वाले उनके एक दोस्त विक्रम कुशवाह ने खाल दी थी। उसने कहा था कि कुछ शौकीन लोग इसे खरीद लेंगे और मुनाफे के लाखों रुपए बांट लिए जाएंगे। फटाफट लाखों कमाने के लालच में दोनों खाल बेचने निकल पड़े थे। पुलिस कोरिया वाले दोस्त का भी पता लगा रही है।

खबरें और भी हैं...