भाजपा कोर ग्रुप में रणनीति:बेरोजगारी, शराबबंदी के मुद्दे पर महिला युवा और किसान मोर्चा उतरेगा सड़क पर

रायपुरएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
प्रदेश पदाधिकारियों की बैठक में राष्ट्रीय सह संगठन मंत्री शिवप्रकाश, डी.पुरंदेश्वरी, रमन सिंह, विष्णुदेव साय व अन्य। - Dainik Bhaskar
प्रदेश पदाधिकारियों की बैठक में राष्ट्रीय सह संगठन मंत्री शिवप्रकाश, डी.पुरंदेश्वरी, रमन सिंह, विष्णुदेव साय व अन्य।
  • 2023 की तैयारी के लिए अगस्त में हाेगा चिंतन शिविर, नड्‌डा भी आएंगे

कांग्रेस सरकार को घेरने भाजपा कोर ग्रुप में रणनीति बनाई। किसान, युवा और महिला मोर्चा अगले दो महीनों में खाद, बेरोजगारी भत्ता और शराबबंदी के मुद्दे पर सरकार को घेरने सड़क पर उतरेगी। किसान मोर्चा अगले दो से तीन दिन में, युवा मोर्चा अगस्त और महिला मोर्चा सितंबर में आंदोलन करेगी। मोर्चा- प्रकोष्ठों के कामकाज की निगरानी के लिए पहले की तरह प्रदेश प्रभारी और सह प्रभारी हर महीने दौरे पर छत्तीसगढ़ आएंगे।

पुरंदेश्वरी ने सभी मोर्चा- प्रकोष्ठों को 5 अगस्त तक सभी नियुक्तियों को पूरा करने के लिए कहा है। इसके लिए सभी जिले में समन्वय समिति बनाई जाएगी। यह समिति सभी मोर्चा- प्रकोष्ठाें में जिले से लेकर ब्लॉक, मंडल और बूथ तक के कार्यकर्ताओं के बीच समन्वय स्थापित करेगी। फील्ड एक्टिविटी बढ़ाने और मुद्दों के अनुसार प्रदेश के नेता जिलों में और राष्ट्रीय नेता प्रदेश स्तर के कार्यक्रमों में शामिल होंगे।

भाजपा अगले महीने पार्टी का चिंतन शिविर करने वाली है। राष्ट्रीय अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्‌डा भी अगले माह प्रदेश दौरे पर आ सकते हैं। फिलहाल चिंतन शिविर का स्थान अभी तय नहीं है लेकिन माना जा रहा है कि चिंतन शिविर के साथ भाजपा मिशन 2023 के लिए जुट जाएगी।

अगला चुनाव किसी चेहरे की बजाय विकास पर लड़ेगी भाजपा: पुरंदेश्वरी

भाजपा की प्रदेश प्रभारी डी पुरंदेश्वरी ने रविवार को कांग्रेस सरकार और उसके नेतृत्व पर जमकर हमला बोला। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि पार्टी 2023 का विधानसभा चुनाव विकास के मुद्दे पर लड़ेगी और राज्य में भाजपा की सरकार बनेगी। चुनाव किसके नेतृत्व में लड़ा जाएगा, यह पार्टी तय करेगी।

दरअसल, कुशाभाऊ ठाकरे स्थित भाजपा कार्यालय में मीडिया ने उनसे पूछा कि 2023 के चुनाव में भाजपा का छत्तीसगढ़ में चेहरा कौन होगा। इसके जवाब में पुरंदेश्वरी ने ये बात कही। इससे पहले उन्होंने भूपेश सरकार की कार्यप्रणाली पर सवाल खड़ा करते हुए कहा कि जो खुद अपने पार्टी के सहयोगी के साथ न्याय नहीं कर सकते, वह दूसरों के साथ न्याय कैसे कर पाएंगे।

खबरें और भी हैं...