धर्म समाज:पूर्णिमा की बड़ी पूजा में कई अनुष्ठान पर अरज एक ही, संकट हरो दादा गुरुदेव!

रायपुर6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • कोरोना महामारी से मुक्ति के लिए सीमंधर स्वामी जैन मंदिर में विशेष पूजा

चैत्र पूर्णिमा पर सीमंधर स्वामी जैन मंदिर में दादा गुरुदेवों की बड़ी पूजा की गई। विधिकारक और मंदिर ट्रस्ट के चंद लोगों की मौजूदगी में सारे विधान संपन्न कराए गए और दादा गुरुदेवों से प्रार्थना की गई कि पूरे विश्व को कोरोना महामारी से मुक्ति दिलाएं। इस अवसर दादा गुरुदेवों की प्रतिमा का अभिषेक भी किया गया।

मंदिर समिति के अध्यक्ष संतोष बैद ने बताया कि भैरव सोसाइटी स्थित जैन दादाबाड़ी में चाराें दादा गुरुदेव की प्रतिमा एक ही छत्र के नीचे विराजमान है। ये सभी प्रतिमाएं मार्बल की हैं। बुधवार को विधिकारक ने कोविड नियमों का पालन करते हुए सभी अनुष्ठान संपन्न कराए। इस दौरान नवकार महामंत्र का जाप भी किया गया। इसके बाद दादा गुरुदेवों को अक्षत, नारियल, पान पत्ता व नैवेद्य समर्पित करते हुए मंत्रोच्चार की शुरुआत हुई। प्रथम विधान में ईश्वर जग चिंतामणि कर परमेष्ठी ध्यान गणधर पड़ गन वर्णना पूजन करो सुजान... की चौपाई पढ़ते हुए पवित्र जल से मूर्तियों का अभिषेक किया गया।

द्वितीय विधान में दादा गुरुदेवों को केसर-चंदन आदि अर्पित किया गया। महेंद्र कोचर ने बताया कि विधिकारक ने पूरे विश्व को कोविड महामारी से मुक्त करने की भाव पूर्ण अरदास की। फिर पुष्प, धूप-दीप, अक्षत, नैवेद्य, फल आदि समर्पित करते हुए दादा गुरुदेवों की अष्टप्रकारी पूजा की गई। 9वें विधान में वस्त्र समर्पित कर गुरुदेव के चमत्कारों का वर्णन किया गया। 10वें विधान में ध्वज पूजा की गई, फिर ध्वजा शिखर पर चढ़ाई गई। ग्यारहवें विधान में अर्घ्य द्वारा शुद्धिकरण कर पूजा संपन्न कराई गई।

ये रहे पूजा के लाभार्थी परिवार...

सीमंधर स्वामी जैन मंदिर में हुई बड़ी पूजा के लाभार्थी परिवार अनमोल ममता जैन, वर्धमान वर्तिका वैभव चोपड़ा, मूलचंद संतोष सरल बैद, करणमल संपतलाल घीया, बसंत जितेन्द्र नाहर, गुमानचन्द सुरेशचंद झाबक, चन्दरीदेवी कांकरिया रहे। पूजा की समाप्ति आरती व मंगल दीपक के साथ हुई। इस दौरान निर्मल पारख, प्रतिभा बाफना मौजूद रहे।

खबरें और भी हैं...