• Hindi News
  • Local
  • Chhattisgarh
  • Raipur
  • Minister Amarjit Bhagat Wrote A Letter To The Chief Minister Demanding The Closure Of The Aluminum Plant, Saying – The Party Will Suffer

सरगुजा में उद्योग, मंत्रियों में टकराव:अमरजीत भगत ने CM को लिखा पत्र, कहा- एल्यूमीनियम प्लांट की अनुमति रद्द हो, इससे पार्टी को नुकसान होगा

रायपुर21 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
खाद्य मंत्री अमरजीत भगत उसी क्षेत्र में सीतापुर से विधायक हैं। उनको आशंका है कि लोगों के गुस्से की कीमत अगले चुनाव में चुकाना पड़ सकता है। - Dainik Bhaskar
खाद्य मंत्री अमरजीत भगत उसी क्षेत्र में सीतापुर से विधायक हैं। उनको आशंका है कि लोगों के गुस्से की कीमत अगले चुनाव में चुकाना पड़ सकता है।

छत्तीसगढ़ के सरगुजा में खनन के बाद उद्योगों ने भी स्थानीय लोगों और सरकार के बीच टकराव बढ़ा दिया है। विरोध का अंदाजा इससे लगा सकते हैं कि सरगुजा क्षेत्र के मंत्री अगले चुनावों में नुकसान की बात करने लगे हैं। खाद्य एवं संस्कृति मंत्री अमरजीत भगत ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को एक पत्र लिखा है।

इसमें सरगुजा के बतौली ब्लॉक में प्रस्तावित एल्यूमीनियम फैक्ट्री की अनुमति रद्द करने की मांग की गई है। खाद्य मंत्री ने कहा, ग्रामीणों विरोध के बाद भी फैक्ट्री खुली तो उन्हें और पार्टी को नुकसान होगा।

खाद्य मंत्री अमरजीत भगत ने मुख्यमंत्री को बताया है, सरगुजा के बतौली ब्लॉक के चिरंगा में मां कुदरगढ़ी एल्युमिना रिफाइनरी प्रस्तावित है। चिरंगा, मांजा, लैगू, पोड़ीकला, झरगंवा और करदना गांव के लोग इस प्लांट का लगातार विरोध कर रहे हैं। ग्रामीण इसके लिए मुख्यमंत्री और राज्यपाल को ज्ञापन सौंप चुके हैं।

छत्तीसगढ़ उच्च न्यायालय में एक याचिका भी दायर किया गया है। खाद्य मंत्री ने लिखा, मेरे विधानसभा क्षेत्र की जनता में प्लांट की स्थापना से भारी आक्रोश है। वहां लगातार धरना-प्रदर्शन हो रहा है।

इस असंतोष से राजनीतिक रूप से मुझे और पार्टी को नुकसान होगा। खाद्य मंत्री ने इन परिस्थितियों का हवाला देकर मां कुदरगढ़ी एल्युमिना रिफाइनरी प्राइवेट लिमिटेड को दी गई अनुमति को निरस्त करने की मांग की है।

2.25 लाख टन प्रति वर्ष क्षमता का प्लांट
सरगुजा जिले के बॉक्साइट बहुल मैनपाट के नजदीक बतौली ब्लॉक में प्रस्तावित मां कुदरगढ़ी एल्युमिना रिफाइनरी प्राइवेट लिमिटेड प्रस्तावित है। इसकी क्षमता 2.25 लाख टन प्रति वर्ष की है। इस प्लांट में फिनिश स्पेशल ग्रेड एल्यूमिना बनाया जाना है। इसके साथ ही 25 मेगावॉट कैप्टिव सौर ऊर्जा संयंत्र भी लगाया जाना है। इसके लिए भूमि अधिग्रहण पहले ही किया जा चुका है।

खबरें और भी हैं...