इंजीनियर्स-डे विशेष:पाॅवरहाउस में पुराने ओवरब्रिज के ऊपर से नया पुल, अपनी तरह का पहला

रायपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

छत्तीसगढ़ के इंजीनियर्स राज्य में पिछले 50 साल में गंगरेल बांध, नवा रायपुर में महानदी-इंद्रावती भवनों जैसे मेगा निर्माण कर चुके हैं, लेकिन अभी सबसे बड़ा निर्माण रायपुर से भिलाई के बीच करीब 40 किमी जीई रोड पर पांच फ्लाईओवर का चल रहा है। रायपुर-दुर्ग सिक्सलेन हाइवे को स्मूथ बनाने के लिए ये फ्लाईओवर बन रहे हैं, जिनमें से पॉवरहाउस फ्लाईओवर एक पुराने ओवरब्रिज के ऊपर से गुजरेगा और प्रदेश में अपनी तरह का पहला होगा।

इसी तरह, रायपुर में स्पाइन शेप (लगभग वाय-शेप) का पहला फ्लाईओवर टाटीबंध चौक पर बन रहा है। एक अच्छी खबर यह भी है कि पीडब्ल्यूडी ने कुम्हारी फ्लाईओवर को अक्टूबर अंत या नवंबर के पहले पखवाड़े तक शुरू करने के हिसाब से पूरी ताकत लगा दी है।

क्योंकि यहां पिछले तीन माह से दिन में कई बार प्रदेश का सबसे बड़ा जाम लग रहा है। नेशनल हाईवे ने इसमें लगभग 20 इंजीनियर लगा रखे हैं और काम चौबीसों घंटे चल रहा है। इसी तरह, इसी तरह कुम्हारी, डभरापारा, पावर हाउस औैर नेहरूनगर फ्लाईओवर में भी औसतन 15-15 इंजीनियर लगे हैं। इनमें भी कुम्हारी फ्लाईओवर का काम चौबीसों घंटे जारी है।

वर्सन कुम्हारी ओवरब्रिज नवंबर से

कुम्हारी फ्लाईओवर के काम में बड़ी संख्या में इंजीनियरों और स्टाफ को झोंक दिया गया है और यह काम अक्टूबर तक पूरा करने की उम्मीद है। नवंबर के पहले पखवाड़े में इस पर ट्रैफिक चलने लगेगा, ऐसी उम्मीद करिए।

केके पीपरी, चीफ इंजीनियर-पीडब्ल्यूडी

खबरें और भी हैं...