2022 में संवरेगा मोर रायपुर:7 स्मार्ट सड़कें बनेंगी, यूथ हब, 50 करोड़ से भी ज्यादा खर्च के बाद तैयार होंगी नई जगहें

रायपुर9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

साल 2022 में रायपुर को स्वरूप बदलेगा और भी संवरेगा। करीब 50 करोड़ से भी ज्यादा के 10 बड़े प्रोजेक्ट्स की बदौलत सड़कों पर चलना सुविधाजनक होगा। शहर में पार्क, तालाब, लोगों के लिए क्वालिटी टाइम बिताने की जगहों में तब्दील होंगे। स्मार्ट सड़कें भी मिलेंगी, यूथ हब बनाया जा रहा है। जानिए इस साल शहर को क्या कुछ मिलेगा, इस स्पेशल रिपोर्ट में।

10 बड़े प्रोजेक्ट्स की बदौलत रायपुर को स्वरूप बदलेगा ।
10 बड़े प्रोजेक्ट्स की बदौलत रायपुर को स्वरूप बदलेगा ।

स्मार्ट सड़कें
इस सड़कों का कॉन्सेप्ट कुछ यूं है कि ये चौड़ी तो होगी ही, इनमें पुरानी सड़कों की तरह तारों का जंजाल नजर नहीं आएगा। किनारों पर नाली तक नहीं दिखेगी। सड़कें साफ-सुथरी रहेंगी। ऐसी एक सड़क रायुपर के गौरव पथ और कैनाल रोड के बीच बनाई जा चुकी है। इस सड़क में वायरिंग अंडर ग्राउंड है। फुटपाथ तैयार किया गया है। किनारों पर खूबसूरत पेंटिंग है। डिवाइडर पर ग्रीनरी है।

सड़क में अंडर ग्राउंड वायरिंग की जाएगी।
सड़क में अंडर ग्राउंड वायरिंग की जाएगी।

इसी तरह के 7 और सड़कें तैयार की जा रही हैं। इनमें 32.30 करोड़ की लागत से खालसा स्कूल से कलेक्टोरेट, शास्त्री चौक से जय स्तंभ और फाफाडीह, वीसी शुक्ल चौक से महिला थाना चौक, राजीव गांधी चौक से कोतवाली तक, महाराज बंध तालाब के पास से, आमापारा चौक से आरकेसी तक स्मार्ट सड़कें बनेंगी।

रायपुर शहर के तालाबों का लुक बदला जाएगा।
रायपुर शहर के तालाबों का लुक बदला जाएगा।

30 तालाबों का बदलेगा लुक, शामें बिता सकेंगे
बूढ़ातालाब के सौंदर्यीकरण के लिए दूसरे चरण का काम शुरू हो गया है। इस पर करीब 19 करोड़ रुपए खर्च होंगे। करीब 17.49 करोड़ की लागत से शहर के 29 तालाबों का लुक बदलेगा। इनमें तालाब के किनारे लैंड स्केपिंग होगी। लोंगों के टहलने की जगह बनेगी। कुछ जगहों पर ओपन जिम लगेंगे। तालाब के चारों तरफ खूबसूरत पेंटिंग वाली बाउंड्री वॉल बनेगी। लाइटिंग होगी। इसमें पंडरी, फाफाडीह, जरवाय, अमलीडीह, सोनडोंगरी, बोरियाखुर्द, जैसे शहर के बीच लगभग सभी तालाबों को शामिल किया गया है।

तालाबों के किनारे लोगों के टहलने की जगह बनेगी।
तालाबों के किनारे लोगों के टहलने की जगह बनेगी।

डाइन इन थिएटर मिलेगा
तेलीबांधा तालाब के किनारे डाइन इन थिएटर बनाया जा रहा है, यहां लोग फिल्में देख सकेंगे। 50 लोगों के बैठने का बंदोबस्त होगा, सिटिंग बेहद लग्जरी होगी यहां फूड सर्व किया जाएगा। यहां एंट्री के लिए शुल्क लगेगा, कितना ये तय होना बाकी है। यहां लोग अपनी पसंद की मूवी की स्क्रीनिंग करवा सकेंगे, पार्टी कर सकेंगे। ओपन थिएटर बनाया जा रहा है यहां कई कार्यक्रम होंगे। 100 लोगों की कैपिसटी का योग सेंटर बन रहा है। फूड कोर्ट भी डेवलप किया जा रहा है।

ओपन थिएटर में 50 लोगों के बैठने का बंदोबस्त होगा।
ओपन थिएटर में 50 लोगों के बैठने का बंदोबस्त होगा।

यूथ हब होगा तैयार
रायपुर स्मार्ट सिटी लिमिटेड जी.ई. रोड में 17.71 करोड़ की लागत से यूथ हब तैयार करेगी। यहां ग्रीन कॉरिडोर भी बनेगा। इसके तहत साइंस कॉलेज मैदान के पास सर्वसुविधायुक्त वेंडिंग जोन बनाया जाएगा, जिसमें 65 दुकानें और वेंडिंग कार्ट होंगे। आयुर्वेदिक कॉलेज, साइंस कॉलेज कैम्पस, पं. रविशंकर शुक्ल विश्वविद्यालय के कैम्पस को विकसित किया जाएगा। बच्चों के खेलने के लिए प्ले एरिया बनेगा, सड़कों में इंटरसेक्शन, साइड वॉल में लाइटिंग, लैंडस्कैपिंग के साथ अंडर ग्राउंड ड्रेनेज सिस्टम।

रायपुर में ऑक्सीजोन बनाया जा रहा है, जहां 500 तरह के पौधे होंगे।
रायपुर में ऑक्सीजोन बनाया जा रहा है, जहां 500 तरह के पौधे होंगे।

नया ऑक्सीजोन बन रहा
तेलीबांधा के पास नया ऑक्सीजोन तैयार किया जा रहा है। लगभग 8 एकड़ में तैयार किए जा रहे इस ऑक्सीजोन में करीब 500 तरह के पौधे होंगे, छोटी वॉटर बॉडी तैयार की जा रही है, अंदर मिनी जंगल के बीच सुबह शाम की सैर करने का एक्सपीरियंस मिलेगा। इसे करीब 13 करोड़ की लागत तैयार किया जा रहा है। पहले ही एक ऑक्सीजोन कलेक्टर दफ्तर के पास बनाया गया है।

खबरें और भी हैं...