सावधानी बरतकर डेंगू से बचा जा सकता:राजधानी में पिछले दो दिन में डेंगू के नए केस नहीं, लेकिन खतरा बरकरार

रायपुर8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

राजधानी में अब डेंगू के नए केस कम आ रहे हैं। पिछले 2 दिनों में एक भी केस नहीं आया है। जनवरी से अब तक 455 से ज्यादा मरीज मिल चुके हैं। इसमें अगस्त में ही 249 मरीज मिले थे। हालांकि मौसम डेंगू फैलाने वाले मच्छर एडिस के लिए अनुकूल है। ऐसे में जरूरी सावधानी बरतकर डेंगू से बचा जा सकता है।

सितंबर के बाद अक्टूबर में डेंगू के केस कम हुए हैं। सितंबर में जहां 115 मरीज मिले। वहीं अक्टूबर के 9 दिनों में 15 मरीज मिले हैं। वैसे तो डेंगू का सीजन जुलाई से अक्टूबर तक माना जाता है। इस दौरान रुक-रुककर होने वाली बारिश के कारण खाली प्लाटों, छतों पर रखे पुराने टायर, नारियल खटोली व डिब्बों में पानी भर जाता है। विशेषज्ञों के अनुसार अगर जमा साफ पानी को एक सप्ताह तक खाली नहीं किया गया तो इसमें एडिस के लार्वा जन्म लेते हैं। यही बड़े होकर मच्छर बनते हैं और डेंगू फैलाते हैं।

डॉक्टरों का कहना है कि डेंगू के मच्छर दिन में ही काटते हैं इसलिए फुल पेंट व शर्ट पहनने से संक्रमण से बचा जा सकता है। बुखार हो तो डेंगू जांच जरूर करवाएं। हालांकि इन दिनों वायरल फीवर का सीजन चल रहा है। लोगों के बुखार 7 से 10 दिनों तक ठीक नहीं हो रहे हैं। नगर निगम का विशेष सफाई अभियान बंद है। इसके बाद भी डेंगू से राहत मिलने लगी है। लगातार बारिश नहीं होने से अब साफ पानी का जमाव कम होने लगा है। इस कारण भी राहत मिली है। निगम के अधिकारियों के अनुसार मांग के अनुसार व रुटीन में विभिन्न वार्डों में फागिंग की जा रही है। केमिकल व जले हुए आयल भी डाला जा रहा है। लोगों की शिकायत है कि वार्डों में मच्छर बढ़ गए हैं, लेकिन फागिंग नहीं हो रही है।

खबरें और भी हैं...