पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

मदद में भी राजनीति:केन्द्र से मिले 230 वेंटिलेटर में 77 खराब, 73 को सुधरवाया तब हुए उपयोग, चार अभी भी बिगड़े

रायपुर15 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
कोरोना संक्रमण को देखते हुए अभी 2000 अतिरिक्त बेड की जरूरत - Dainik Bhaskar
कोरोना संक्रमण को देखते हुए अभी 2000 अतिरिक्त बेड की जरूरत
  • केन्द्र से 285 वेंटिलेटर फिर मांगे, पर अब तक जवाब नहीं मिला कि नए वेंटिलेटर मिलेंगे या नहीं

कोरोना के बढ़ते मरीजों के बीच प्रदेश में वेंटिलेटर बेड की कमी होने लगी है। एक ओर जहां मरीज लगातार बढ़ रहे हैं वहीं दूसरी ओर वेंटिलेटर बेड को लेकर केन्द्र और राज्य सरकारों के बीच विवाद की स्थिति भी निर्मित होती जा रही है। कोरोना संक्रमण की पहली लहर में केन्द्र से छत्तीसगढ़ को 230 वेंटिलेटर भेजे गए थे। इनमें से 77 खराब निकले। उनमें 73 को किसी तरह सुधरवाकर उपयोग में लाया जा रहा है।

जबकि 4 वेंटिलेटर अभी भी धूल खाते पड़े हुए हैं। स्वास्थ्य विभाग के अफसरों के अनुसार कोरोना की स्थिति को देखते हुए अभी प्रदेश में दो हजार से अधिक वेंटिलेटर की जरूरत है। छत्तीसगढ़ में अब तक कुल 8 हजार से ज्यादा कोरोना संक्रमितों की मौत हो चुकी है।

सरकारी आंकड़ों के मुताबिक रायपुर में 2,250 मरीजों की मौत हुई है। दुर्ग दूसरे नंबर पर है। यहां 1326 और बिलासपुर में 660 कोरोना संक्रमितों की मौत रिकार्ड की गई है। रायगढ़ में 477, जांजगीर में 406 और राजनांदगांव िजले में मौत का आंकड़ा 340 तक पहुंच गया है।

धमतरी में 330 और कोरबा में 320 तथा महासमुंद में 233 लोग कोरोना से जान गंवा चुके हैं। बलौदाबाजार में 228 आैर बालोद जिले में 209 लाेगों की मौत हुई है। डाक्टरों के अनुसार इनमें से अधिकांश मरीजों को कोरोना संक्रमण के बाद सांस लेने में तकलीफ हुई थी।

हालांकि प्रदेश में फिलहाल ऑक्सीजन सपोर्ट वाले बेड 9000 से अधिक हैं लेकिन कई मरीजों की मौत समय पर वेंटिलेटर नहीं मिलने के कारण होना बताया जा रहा है है। स्वास्थ्य विभाग के मुताबिक प्रदेश में 510 वेंटिलेटर बेड हैं जिनमें भेल से प्राप्त 160 बेड भी शामिल हैं।

निजी अस्पतालों को वेंटिलेटर बढ़ाने के निर्देश

स्वास्थ्य विभाग के अनुमान के अनुसार प्रदेश में कोरोना मरीजों के हिसाब से दो हजार वेंटिलेटर बेड की जरूरत है। राज्य सरकार ने केन्द्र से 285 नए वेंटिलेटर मांगे है लेकिन अभी तक कोई सकारात्मक जवाब नहीं भेजा गया है। निजी और सरकारी मिलाकर एक हजार 50 वेंटिलेटर बेड उपलब्ध हैं। राज्य सरकार ने निजी अस्पतालों को भी वेंटिलेटर बेड बढ़ाने के लिए कहा है।

निजी अस्पतालों में बेड की स्थिति

निजी क्षेत्र के अस्पतालों में कुल 6912 बिस्तर हैं जबकि आईसीयू बिस्तरों की संख्या 1836 है वहीं निजी क्षेत्रों में वेंटीलेटर की संख्या 526 हो गई है।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- व्यक्तिगत तथा व्यवहारिक गतिविधियों में बेहतरीन व्यवस्था बनी रहेगी। नई-नई जानकारियां हासिल करने में भी उचित समय व्यतीत होगा। अपने मनपसंद कार्यों में कुछ समय व्यतीत करने से मन प्रफुल्लित रहेगा ...

    और पढ़ें