थोड़ी राहत की खबर:शहर के 279 संक्रमितों में 15 ही अस्पताल में बाकि होम आइसोलेशन में, क्योंकि बहुत हल्के लक्षण, अधिकांश की हालत सामान्य

रायपुर6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

ओमिक्रॉन की आफत और तेजी से फैलाव को लेकर व्यक्त की जा रही आशंकाओं के बीच थोड़ी राहत की खबर यह भी है कि शहर में कोरोना के केस तो बढ़ रहे हैं लेकिन अस्पताल में भर्ती होने वालों की संख्या बहुत कम है। भास्कर ने पिछले 8 दिन में राजधानी में मिले कोविड संक्रमितों की पड़ताल की तो पता चला कि 279 मरीज मिले, जिमें से अस्पताल में 15 ही भर्ती किए गए हैं।

उनकी हालत भी सामान्य ही है। बाकी 264 होम आइसोलेशन में हैं और तेजी से ठीक हो रहे हैं। इसी का नतीजा है कि इतने केस मिलने के बाद भी प्रदेश के सबसे बड़े कोविड हॉस्पिटल अंबेडकर अस्पताल में बनाए गए 104 बिस्तर पूरी तरह खाली हैं। भास्कर पड़ताल में पता चला है कि अस्पताल में जो मरीज भर्ती हैं वो पहले से ही अस्पताल में सर्जरी या किसी और बीमारी के लिए भर्ती हुए थे। जहां टेस्ट में पॉजिटिव आने के बाद उन्हें वहीं रखकर इलाज किया जा रहा है। लिहाजा अस्पताल में एडमिट ज्यादातर मरीज प्राइवेट अस्पतालों में ही है। फिलहाल की स्थिति में एम्स रायपुर के डायरेक्टर के मुताबिक एम्स में पांच जिलों के लगभग 15 मरीज हैं। इसमें तीन-चार मरीज रायपुर के भी हैं। जानकारों के मुताबिक राहत की दूसरी बात ये है कि घर अर्थात होम आइसोलेशन में जिन मरीजों का इलाज किया जा रहा है, उनमें से किसी को भी अस्पताल में शिफ्ट करवाने की नौबत नहीं आई है।

याद रखें ये नंबर हेल्पडेस्क
रायपुर के रहवासियों के लिए कोरोना को लेकर किसी भी तरह की दिक्कत होम आइसोलेशन या अस्पताल में भर्ती होने जैसे किसी भी चीज के लिए स्वास्थ्य विभाग की हेल्प डेस्क नंबर 075661-00283, 075661- 00284, 075661-00285 नंबरों पर संपर्क किया जा सकता है।

एक्सपर्ट व्यू; डॉ. ओपी सुंदरानी, राज्य कोरोना कोर कमेटी

घर में सावधानियां जरूरी
रायपुर में 264 से अधिक मरीज घर पर इलाज करवा रहे हैं। अभी 12 सौ से अधिक एक्टिव केस पूरे राज्यभर में है। केस बढ़ने पर तीन काम जरूरी तौर पर सभी को करना है- पहला, ये कि कोई भी लक्षण दिखे तो जांच करवानी है, जांच रिपोर्ट मिलने तक खुद को आइसोलेट रखना है। तीसरा ये कि वैक्सीन नहीं लगवाया है तो टीका जरूर लगवाना है।

खबरें और भी हैं...