वार्डों के लोग परशान:धरनों से बूढ़ापारा त्रस्त, रहना और बिजनेस दोनों मुश्किल

रायपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

बड़ी शहरी आबादी के धरना-प्रदर्शन की वजह से परेशान होने के कारण करीब एक दशक पहले मोतीबाग से बूढ़ापारा इनडोर स्टेडियम के पास ले जाए गए धरनास्थल के कारण अब बूढ़ापारा और आसपास के तीन वार्डों के लोग परशान होने लगे हैं। धरना-प्रदर्शन के कारण लगभग रोज कोई न कोई सड़क बंद करनी पड़ रही है, जिससे बिजली आफिस चौक, सत्ती बाजार और इस कारण सदर तथा पुरानी बस्ती की कुछ सड़कों पर दिन में जाम लग रहा है।

यही नहीं, आम लोगों की आवाजाही बंद रहने से दुकानें भी बंद करनी पड़ रही हैं। इसलिए मोहल्ले के लोग बड़ी संख्या में इकट्ठा होकर मंगलवार को कलेक्टर के जनदर्शन में पहुंच गए। उन्होंने कलेक्टर से कहा कि रोज के धरना-प्रदर्शनों से रहना ही नहीं, कारोबार करना और आना-जाना मुश्किल हो गया है। इसलिए धरनास्थल तुरंत बंद किया जाए और एकदम आउटर में कोई नई जगह तलाश की जाए। बूढ़ापारा रहवासी एवं व्यवसायिक संघ के पदाधिकारियों के साथ ही व्यवसायिक सहकारी बैंक लिमिटेड के लोगों ने कलेक्टर सौरभ कुमार को बताया कि हर दिन वहां बड़े प्रदर्शन हो रहे हैं।

धरना देने वाले संगठनों की संख्या इतनी ज्यादा हो गई है कि वे सड़क पर ही रहते हैं। इससे लोगों को अपने ही घर जाने में घंटों लग जाते हैं। कई बार प्रदर्शन खत्म होने तक का इंतजार करना पड़ता है, क्योंकि पुलिस रास्तों को बेरिकेड्स से बंद कर देती है। धरना-प्रदर्शन की वजह से उनका कारोबार भी ठप हो गया है। सड़कें जाम होने की वजह से लोग पुरानी बस्ती, लाखेननगर, बूढ़ापारा, नेहरूनगर, कालीबाड़ी समेत कई बाजारों में या वहां की दुकानों में जाने से बचते हैं। इससे उनका कारोबार घटकर आधे से भी कम होता जा रहा है।

40 लोगों ने बताई परेशानी
जनदर्शन में कलेक्टर को 40 लोगों ने अपनी परेशानी बताई। केंद्री अभनपुर की फुलेश्वरी धीवर ने प्रधानमंत्री आवास योजना के अंतर्गत मिलने वाली राशि दिलाने आवेदन दिया। रामविलास सिन्हा ने पेंशन दिलाने, अधिकतर लोगों ने राशन कार्ड बनवाने, गांव के कुछ लोगों ने प्राकृतिक आपदा से फसल नुकसान की क्षतिपूर्ति रकम दिलाने की मांग को लेकर आवेदन दिया। हर बार की तरह इस बार भी तहसील के अफसरों के खिलाफ शिकायतें पहुंची। कुछ लोगों ने शहर में हो रहे अवैध प्लाटिंग को रुकवाने की मांग की। सुनवाई के दौरान अपर कलेक्टर बीबी पंचभाई, संयुक्त कलेक्टर निधि साहू भी मौजूद थे।

कलेक्टर ने मंगवाई रिपोर्ट
एसोसिएशन के पदाधिकारियों ने कलेक्टर से दो टूक कहा है कि वे किसी भी परिस्थिति में धरना स्थल को शहर से बाहर कर दें। इससे वहां के इलाकों के साथ ही बाकी शहरवालों की भी बड़ी राहत मिलेगी।

लोगों की इस शिकायत पर कलेक्टर ने अफसरों को निर्देश दिए हैं कि इस मामले में बूढ़ापारा और आसपास जाकर हालात का जायजा लें कि क्या वाकई में हालात इतने खराब हो चुके हैं? अगर स्थिति यही है तो फिर धरनास्थल को बूढ़ापारा से हटाकर कहां ले जाया जा सकता है, ऐसे तीन-चार स्पाॅट आउटर में लोकेट करना चाहिए। ताकि इनमें से किसी एक को नए धरनास्थल के रूप में चुना जा सके। कलेक्टर ने लोगों को आश्वस्त किया कि यह जांच-पड़ताल हो जाने दीजिए, इसके बद कोई फैसला लिया जाएगा।

खबरें और भी हैं...