शादी को लेकर गाइडलाइन:लॉकडाउन शादियों में सिर्फ 10 को अनुमति, फिर भी 200 अर्जियां लाइन में

रायपुर7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
कई अर्जियों में लोगों का आग्रह - कोरोना प्रोटोकाॅल के पालन के साथ-साथ घर में ही निपटा देंगे समारोह - Dainik Bhaskar
कई अर्जियों में लोगों का आग्रह - कोरोना प्रोटोकाॅल के पालन के साथ-साथ घर में ही निपटा देंगे समारोह

राजधानी में कोरोना मरीजों की संख्या बढ़ने की वजह से प्रशासन ने शादी में केवल 10 लोगों को ही शामिल होने की अनुमति दी है। इसके बावजूद शुभ मुहूर्त होने की वजह से केवल राजधानी से ही करीब 200 लोगों ने शादी करने के लिए ऑनलाइन अर्जी दाखिल की है। कलेक्टोरेट और तहसील दफ्तर आम लोगों के लिए बंद होने की वजह से अभी केवल ऑनलाइन आवेदन ही मंजूर किए जा रहे हैं।

जिन लोगों को शादी की अनुमति दी जा रही है उनसे कहा गया है कि उन्हें वर या वधु के घर में ही शादी करनी होगी। बाहर शादी का कार्यक्रम नहीं हो सकता है। दोनों परिवारों से केवल 10 लोग ही शामिल हो सकेंगे। इससे ज्यादा लोग होने पर अनुमति रद्द होने के साथ ही संबंधित लोगों पर एफआईआर भी कराई जा सकती है।

शहर के पंडितों के अनुसार अभी 22 अप्रैल से 15 जुलाई तक शादियों के कई मुहूर्त हैं। यह खास शुभ अवसर है इसलिए लोग घरों में भी रहकर शादी करने के लिए तैयार हैं। खास मुहूर्त की जानकारी पहले से होने की वजह से भी लोगों ने अप्रैल के पहले ही शादियों के लिए कार्यक्रम तय कर लिया था। कई शादियों का समय तो पिछले साल ही तय कर लिया गया था।

लॉकडाउन को लेकर अभी भी कई तरह की संभावनाएं हैं। इसलिए भी लोग ऐसी परिस्थितियों में भी शादी करने के लिए तैयार हैं। कई समाज का तर्क है कि इससे शादी में होने वाला फिजूलखर्च भी बच जाता है। इस वजह से भी लोग शादियों की अनुमति के लिए लगातार आवेदन कर रहे हैं।
भास्कर विशेष : कई अर्जियों में लोगों का अाग्रह - कोरोना प्रोटोकाॅल के पालन के साथ-साथ घर में ही निपटा देंगे समारोह

कार्रवाई नहीं क्योंकि जांच नहीं
लॉकडाउन के दौरान वाले वाली शादियों की मॉनिटरिंग के लिए अफसरों को जिम्मेदारी दी गई है। लेकिन इसकी जांच ही नहीं होती है। यही वजह है कि पिछले लॉकडाउन में हुई शादियों या इस साल होने वाली शादियों में कभी भी किसी पर भी कोई कानूनी कार्रवाई नहीं की गई है। आमतौर में किसी भी शादी में न्यूनतम 50 लोग उपस्थित रहते ही हैं।

इसके बाद भी आज तक एक भी एफआईआर नहीं की गई है। अफसरों का कहना है कि लोग नियमों का पालन करते हैं। किसी भी शादी में बैंड, बारात या बड़े कार्यक्रम आयोजित नहीं किए जाते हैं। माना जा रहा है कि इस वजह भी है कि घरों में होने वाली शादी में प्रशासन सख्ती से काम नहीं लेता है। इसके अलावा ज्यादा भीड़ की कहीं से कोई शिकायत भी नहीं मिलती है। इस कारण भी कार्रवाई नहीं होती है।
भास्कर नाॅलेज
इस तरह करें आवेदन

शादी करने की अनुमति के लिए अपने लोग घर से ही मोबाइल या कंप्यूटर से https://edistrict.cgstate.gov.in वेबसाइट पर क्लिक कर आवेदन कर सकते हैं। आवेदन के दौरान उन्हें आधार कार्ड, शादी कार्ड की इमेज भी अपलोड करनी होगी। आवेदन करने के बाद शादी का अप्रूवल भी ई-मेल और एसएमएस में आ जाएगा। इसके लिए लोगों को घरों के बाहर जाने की जरूरत नहीं हैै।

खबरें और भी हैं...