नई गाइडलाइन, रास-गरबा उत्सव रात 10 बजे तक ही:गरबा में टीके के दोनों डोज लगाने वालों को ही मिलेगा प्रवेश, 200 को अनुमति

रायपुर12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

नवरात्रि के मौके पर राजधानी में किसी भी रास-गरबा कार्यक्रम में शामिल होने वाले लोगों की संख्या अधिकतम 200 तय कर दी गई है। कॉलोनियों, अपार्टमेंट, भवनों या हॉल में गरबा हुआ तो परिसर की क्षमता से आधे लोग ही मौजूद रह पाएंगे।

गरबा-डांडिया खेलने की अनुमति सिर्फ उन्हें होगी, जिन्हें वैक्सीन का डबल डोज लगा हो। इसकी जांच प्रवेश द्वार पर ही आयोजन समिति करेगी। इसके लिए लोगों को मोबाइल पर आए एसएमएस या वैक्सीन सर्टिफिकेट दिखाना होगा। यही नहीं, गरबा कार्यक्रम की समय सीमा रात 10 बजे तक तय की गई है। नवरात्रि की शुरुआत के साथ ही शहर में होने वाले गरबा कार्यक्रमों के लिए कलेक्टर ने गुरुवार की शाम नई गाइडलाइन जारी कर दी। हालांकि इसमें समय को लेकर विवाद भी शुरू हो गया है।

गरबा की इवेंट कंपनियों का कहना है कि रात 10 बजे के बाद गरबा शुरू होता है ऐसे में प्रशासन को कम से कम रात 12 बजे तक कार्यक्रम करने की अनुमति दी जानी चाहिए थी। कलेक्टर ने साफ कर दिया है कि किसी भी आयोजन में किसी व्यक्ति को कोरोना होता है या कोरोना संक्रमित को प्रवेश देने से दूसरे लोगों में बीमारी फैलती है तो इसकी पूरी जिम्मेदारी आयोजन समिति के सदस्यों पर होगी। उनके खिलाफ वैधानिक कार्रवाई की जाएगी। इसलिए बिना जांच के किसी भी व्यक्ति को आयोजन स्थल पर प्रवेश न दिया जाए। इसके लिए पुख्ता इंतजाम किए जाए। आयोजन स्थलों की जांच का जिम्मा प्रशासन, पुलिस और निगम अफसरों को जोनवाइज दी गई है।

इन नियमों का करना होगा पालन

  • जहां गरबा होगा वहां आने-जाने के लिए अलग-अलग रास्ते होंगे।
  • आयोजन स्थल पर संक्रमण रोकने रोजाना दो बार सैनिटाइजेशन करना जरूरी होगा।
  • प्रवेश द्वार पर थर्मल स्क्रीनिंग होगी। लक्षण वालों को प्रवेश नहीं।
  • मास्क, हैंडवॉश, सोशल और फिजिकल डिस्टेसिंग रखना होगा।
  • दो लोगों के बीच 6 फीट की दूरी होगी। रजिस्टर में नाम नोट करेंगे।
  • लाउडस्पीकर, माइक या साउंड बॉक्स की आवाज तेज नहीं होगी।
  • आयोजन के पहले लोकल थाना प्रभारी को सूचना देना अनिवार्य।
  • पार्किंग की व्यवस्था आयोजन समिति करेगी। सड़क बाधित न हों।
खबरें और भी हैं...