पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

बेड खाली होने लगे हैं:शहर में अाॅक्सीजन-अाईसीयू के 12सौ बेड, 54 वेंटिलेटर खाली

रायपुर14 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • डॉक्टरों का सुझाव; अगर अाक्सीजन सेचुरेशन 94 से कम अा रहा है, तो घर के बजाय जा सकते हैं अस्पताल

राजधानी में सप्ताहभर से कोरोना के कम मरीज मिलने का असर ये हुआ है कि सरकारी व निजी अस्पतालों में बेड खाली होने लगे हैं। सोमवार रात 8 बजे की स्थिति में निजी अस्पतालों में ऑक्सीजन बेड 989 व आईसीयू के 251 बेड खाली थे। 54 वेंटीलेटर के साथ-साथ एचडीयू के 209 बेड भी खाली हो गए हैं।

हालांकि बड़े निजी अस्पतालों में आईसीयू व वेंटीलेटर खाली नहीं है। विशेषज्ञों का कहना है कि ऑक्सीजन सेचुरेशन 94 से कम हो तो घर में इलाज कराने के बजाय अब अस्पताल जाना ही बेहतर है। राजधानी में पिछले एक हफ्ते से 1500 से कम मरीज मिल रहे हैं। इसका असर ये हुआ है कि सभी अस्पतालों में बेड खाली हो रहे हैं। गंभीर मरीजों के लिए भी आईसीयू बेड उपलब्ध होने लगे हैं। सप्ताहभर पहले ऑक्सीजन बेड के लिए मारामारी थी, लेकिन अभी सबसे ज्यादा ऑक्सीजन बेड ही खाली है। अंबेडकर अस्पताल में 16 ऑक्सीजन बेड खाली है। जबकि आईसीयू व वेंटीलेटर फुल है।

कोरोना में ऑक्सीजन सेचुरेशन महत्वपूर्ण है। 94 से कम हो ऑक्सीजन देने की जरूरत रहती है। न्यूरो सर्जन डॉ. राजीव साहू व प्लास्टिक सर्जन डॉ. कमलेश अग्रवाल के अनुसार कई मामलों में देखा गया है कि ऑक्सीजन स्तर एक बार कम होने पर तेजी से कम होने लगता है। ऐसे में मरीज को ऑक्सीजन की जरूरत होती है। इसके लिए एक दक्ष व्यक्ति की भी जरूरत होती है, जो यह आकलन कर सके कि मरीज को प्रति मिनट कितने लीटर ऑक्सीजन देने की जरूरत है। निर्धारित मात्रा से कम या ज्यादा ऑक्सीजन देने पर मरीज की स्थिति बिगड़ सकती है। ऐसे में निगरानी बहुत जरूरी है। वर्तमान में अस्पतालों में ऑक्सीजन सेचुरेशन कम वाले मरीज ज्यादा जा रहे हैं। ऐसे मरीजों की मौत भी हो रही है। ऑक्सीजन सेचुरेशन संभाल लें तो मौतों में कमी लाई जा सकती है। घर में सांस में तकलीफ होना, मरीज के गंभीर होने का संकेत है।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- व्यक्तिगत तथा व्यवहारिक गतिविधियों में बेहतरीन व्यवस्था बनी रहेगी। नई-नई जानकारियां हासिल करने में भी उचित समय व्यतीत होगा। अपने मनपसंद कार्यों में कुछ समय व्यतीत करने से मन प्रफुल्लित रहेगा ...

    और पढ़ें