पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

पेगासस जासूसी कांड पर कांग्रेस का प्रदर्शन:छत्तीसगढ़ राजभवन का घेराव किया; केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह को बर्खास्त करने की मांग, कहा - सुप्रीम कोर्ट की निगरानी में हो जांच

रायपुर2 दिन पहले
पुलिस ने प्रदर्शनकारियों को राजभवन जाने से रोका तो वे पुलिस से उलझ गए। धक्कामुक्की के बाद भी पुलिस ने उन्हें आगे नहीं जाने दिया।

पेगासस जासूसी कांड के खुलासे के बाद देश की राजनीति में बवाल मचा हुआ है। इस मामले में कांग्रेस ने केंद्र सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। वहीं छत्तीसगढ़ कांग्रेस ने गुरुवार को राजभवन का घेराव किया। इसके बाद PCC चीफ मोहन मरकाम के नेतृत्व में एक प्रतिनिधिमंडल ने राष्ट्रपति के नाम राज्यपाल को एक ज्ञापन सौंपा। इसमें केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह को बर्खास्त करने और सर्वोच्च न्यायालय की निगरानी में पेगासस जासूसी कांड की न्यायिक जांच की मांग रखी गई है। इससे पहले कांग्रेस नेताओं और कार्यकर्ताओं ने पैदल मार्च निकाला।

कांग्रेस प्रतिनिधिमंडल ने राज्यपाल अनुसूईया उइके से मिलकर उन्हें ज्ञापन सौंपा।
कांग्रेस प्रतिनिधिमंडल ने राज्यपाल अनुसूईया उइके से मिलकर उन्हें ज्ञापन सौंपा।

PCC चीफ मोहन मरकाम की अगुवाई में नेता और कार्यकर्ता केंद्र सरकार और भाजपा के खिलाफ नारे लगाते हुए राजीव भवन से निकले। भाजपा को देशद्रोही कहा और सरकार पर नागरिकों के अधिकारों पर हमला करने का आरोप लगाया। करीब 45 मिनट पैदल मार्च करते प्रदर्शनकारी राजभवन के पास पहुंचे, लेकिन पुलिस ने साक्षरता चौक के पास बैरिकेड लगाकर रोक लिया। इसके चलते कार्यकर्ताओं और पुलिस के बीच संघर्ष की स्थिति बन गई। हालांकि, बाद में कार्यकर्ता धरने पर बैठ गए। बाद में एक प्रतिनिधिमंडल राज्यपाल से मिलने राजभवन के भीतर गया।

इसमें प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष मोहन मरकाम, मंत्री डॉ. प्रेमसाय सिंह, मंत्री कवासी लखमा, विधायक धनेन्द्र साहू, विधायक सत्यनारायण शर्मा, कोषाध्यक्ष रामगोपाल अग्रवाल, उपाध्यक्ष गिरीश देवांगन, उपाध्यक्ष प्रतिमा चंद्राकर, प्रभारी महामंत्री प्रशासन रवि घोष, प्रभारी महामंत्री संगठन चंद्रशेखर शुक्ला, खादी ग्रामोद्योग बोर्ड अध्यक्ष राजेन्द्र तिवारी, पाठ्य पुस्तक निगम अध्यक्ष शैलेश नितिन त्रिवेदी, विधायक कुलदीप जुनेजा, विधायक विकास उपाध्याय, विधायक लक्ष्मी ध्रुव, विधायक अनिता शर्मा, विधायक हरीश कंवर, युवा कांग्रेस अध्यक्ष पूर्णचंद पाढ़ी, रायपुर महापौर एजाज ढेबर आदि शामिल थे।

राजभवन के बाहर कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष मोहन मरकाम ने प्रेस से चर्चा की।
राजभवन के बाहर कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष मोहन मरकाम ने प्रेस से चर्चा की।

राजनीतिक उद्देश्य से पेगासस का दुरुपयोग किया गया
राजभवन के बाहर प्रदेश अध्यक्ष मोहन मरकाम ने कहा, केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार द्वारा मंत्रियों, संविधानिक पदों पर आसीन अधिकारियों, सुरक्षाबलों के प्रमुखों, विपक्ष के नेताओं और पत्रकारों-वकीलों के सेलफोन को हैक कर जासूसी का खुलासा हुआ है। यह बेहद निंदनीय है। कांग्रेस ने राष्ट्रपति से इस मामले में हस्तक्षेप कर जांच कराने का आग्रह किया है। संचार विभाग के अध्यक्ष शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा, जिस तरह से राजनीतिक उद्देश्यों से पेगासस का दुरुपयोग किया गया, उसके खिलाफ यह प्रदर्शन था।

घेराव के दौरान सांस्कृतिक प्रकोष्ठ ने राजनीतिक गीतों से केंद्र की भाजपा सरकार पर कटाक्ष जारी रखा।
घेराव के दौरान सांस्कृतिक प्रकोष्ठ ने राजनीतिक गीतों से केंद्र की भाजपा सरकार पर कटाक्ष जारी रखा।

प्रदर्शन में गीत गाया - जासूसी करके जो जीत गया..
राजभवन के बाहर कांग्रेस ने करीब एक घंटे तक प्रदर्शन किया। इस दौरान कांग्रेस सांस्कृतिक प्रकोष्ठ ने गीतों के जरिए केंद्र की भाजपा सरकार पर निशाना साधा। गीत गाए गए – जासूसी करके जो जीत गया, जनता की नजरों से वो गिर गया।

दो दिन पहले बनी थी आंदोलन की रूपरेखा
पेगासस जासूसी कांड से प्रभावितों की सूची में देश भर के तमाम नाम आने के बाद कांग्रेस ने इस तरह के आंदोलन की रूपरेखा तैयार की थी। दूसरी सूची में राहुल गांधी का नाम आया तो यह प्रक्रिया तेज हुई। उसी दिन तय हुआ कि कांग्रेस गुरुवार को राजभवन तक पैदल मार्च करेगी। बुधवार को प्रदेश अध्यक्ष मोहन मरकाम ने प्रेस वार्ता कर भाजपा को देशद्रोही और जासूसी पार्टी बताया।

प्रदर्शन की वजह से साक्षरता चौक से गांधी उद्यान चौक तक का पूरा रास्ता करीब डेढ़ घंटे तक जाम रहा। यातायात की रफ्तार यहां बेहद धीमा हो गया था।
प्रदर्शन की वजह से साक्षरता चौक से गांधी उद्यान चौक तक का पूरा रास्ता करीब डेढ़ घंटे तक जाम रहा। यातायात की रफ्तार यहां बेहद धीमा हो गया था।
खबरें और भी हैं...