पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

रायपुर की बाढ़ पर राजनीति:पूर्व मंत्री मूणत बोले- कांग्रेस ने नगर निगम को भ्रष्टाचार का अड्‌डा बनाया; महापौर का जवाब- 250 करोड़ का स्काइवॉक बना, तब नहीं दिखा करप्शन

रायपुर11 दिन पहले

पिछले तीन दिनों से हो रही बरसात ने रायपुर शहर का हाल पानी-पानी कर दिया है। सड़कों से लेकर लोगों के घरों, संस्थानों और दुकानों तक में पानी घुस गया। निचले इलाकों में रह रहे लोगों को काफी परेशानी उठानी पड़ी है। अब इस पर राजनीतिक बयानबाजी जारी है। प्रदेश भाजपा के प्रवक्ता और पूर्व मंत्री राजेश मूणत ने कहा है कि कांग्रेस ने नगर निगम को भ्रष्टाचार का अड्‌डा बना डाला है। जवाब में महापौर एजाज ढेबर ने पूछा है, जब पूर्व मंत्री 250 करोड़ का स्काइवॉक बनवा रहे थे, तो भ्रष्टाचार नहीं दिखा।

पूर्व मंत्री राजेश मूणत ने अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर आगे लिखा कि स्मार्ट सिटी का पैसा खाने के लिए गैर जरूरी काम भी करवाए। अब लोगों पर डेंगू, मलेरिया और पीलिया का खतरा मंडरा रहा है। आज इस संबंध में पूछे गए सवाल पर महापौर एजाज ढेबर ने कहा, जब उन लोगों ने 250 करोड़ का स्काइवॉक बना दिया तब उनको भ्रष्टाचार दिखाई नहीं दिया। राजेश मूणत जी ने कई सारे अंडरब्रिज बना दिए तो क्या वे स्वीमिंग पूल थे।

गुढियारी में जो अंडरब्रिज बने हैं, सबसे ज्यादा पानी तो वहीं भरता है। 10-10, 20-20 फीट तो पानी वहां भरता है। वह किसके लिए बनाए हैं, अपने नहाने के लिए बनाए हैं क्या। महापौर ने कहा कि 15 साल इनकी सरकार रही, किसी ने रायपुर की ओर नहीं देखा। सभी नया रायपुर गए। वहां 20 हजार करोड़ रुपए खर्च किया। मगर पुराने रायपुर में एक रुपए खर्च नहीं किया। यहां अगर प्लानिंग किए रहते, अच्छे से ड्रेनेज पर काम हुआ होता तो यह पानी भरने की समस्या ही न होती।

10 तस्वीरों में देखिए रायपुर में जलभराव:स्वामी आत्मानंद स्कूल और आजाद चौक थाने में घुसा पानी; अंडरब्रिज लबालब, घरों-दुकानों में भी हालत खराब

पानी का कुछ नहीं कर सकते, लोगों को परेशानी से बचाने की जिम्मेदारी
महापौर एजाज ढेबर ने कहा कि पानी जब इतना जमकर गिरेगा तो मैं और आप कुछ नहीं कर सकते। यह प्राकृतिक है। पानी का हम कुछ नहीं कर सकते। यह जरूर है कि जनहानि न हो, लोगों को परेशानी न हो, लोगों के घर में परेशानी न हो इसके लिए हम प्रतिबद्ध हैं।

अब 24 घंटे तैनात रहेंगे निगम कर्मी
महापौर ने बताया कि लोगों को परेशानी से बचाने के लिए नगर निगम कर्मचारियों को दिन-रात पूरे समय के लिए काम पर लगा दिया गया है। अलग-अलग नोडल अधिकारी बनाकर जिम्मेदारियां बांटी हैं। जोन में लोग हर समय रहेंगे। बारिश होगी तो हर आदमी, हर अधिकारी निकलेगा। जब सब निकलेंगे तो लोगों को पानी की वजह से हो रही परेशानी काफी हद तक दूर होगी।

खबरें और भी हैं...