एम्स की नौकरी का झांसा:बहन का इलाज कराने गए भाई की दोस्ती वार्ड बॉय से हुई, सरकारी नौकरी का सपना दिखाकर लिए 5 लाख

रायपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
दिल्ली एम्स के इसी कैंपस में नौकरी का वादा किया गया । फाइल फोटो। - Dainik Bhaskar
दिल्ली एम्स के इसी कैंपस में नौकरी का वादा किया गया । फाइल फोटो।

रायपुर के एक प्राइवेट अस्पताल में नर्सिंग स्टाफ का काम करने वाले रूपेश कश्यप को सरकारी नौकरी का झांसा देकर दिल्ली के रहने वाले एक ठग ने लूट लिया है। रुपेश की शिकायत पर अब पुलिस दिल्ली के शातिर ठग की तलाश में है। मामला दो साल पुराना है। शिकायकर्ता युवक का दावा है कि कई दिनों तक अपने साथ हुई ठगी के बारे में बिना किसी से कुछ कहे, वो ठग की तलाश करता रहा।

रूपेश ने बताया कि मामला साल 2019 का है। वह कमल विहार स्थित एक प्राइवेट हॉस्पिटल में नौकरी करता रहा था। ठगी करने वाला आरोपी यश यहां अपनी बहन स्वीटी का इलाज कराने आता था। यही रुपेश और यश कुमार की दोस्ती हो गई यश ने दावा किया कि वह केंद्र सरकार के बड़े बड़े अफसरों को जानता है। वह उसकी नौकरी दिल्ली एम्स में लगवा सकता है। यश ने कहा नौकरी के बदले 5 लाख देने होंगे ढाई लाख काम होने से पहले और ढाई लाख जॉइनिंग लेटर मिलने के बाद देने होंगे।

जांजगीर के रहने वाले रुपेश ने अपने कुछ साथियों को भी इस बारे में बताया। मोतीपुर के रहने वाले बालेश्वर साहू, नवागढ़ के रहने वाले धनीराम जलतारे, श्रवण कश्यप, सूरज कश्यप, इंदिरा कश्यप, नरेश कश्यप, द्वारिका साहू नाम के युवकों ने भी दिल्ली एम्स में स्टाफ नर्स, स्टोर कीपर, प्रशासनिक सहायक जैसे पदों पर नौकरी लगवाने के लिए यश कुमार से संपर्क किया। यश ने इनके साथ भी उसी तरह के वादे किए।

​​​​​​​ मार्च 2020 में दिल्ली बुलाकर इन युवकों से भी रुपए लिए । इनके साथ रूपेश भी दिल्ली गया हुआ था तब दिल्ली के एक होटल में बुलाकर यश ने रूपेश को एक फर्जी जॉइनिंग लेटर थमा दिया और बाकी की ढाई लाख रुपए भी वसूल लिए। इसके बाद से यश कुमार का न तो कहीं पता चल पाया और ना ही उससे फोन पर बात हो पाई। अब रुपेश ने पुलिस से मदद मांगी है।

खबरें और भी हैं...