पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कोरोना और सियासत:महापौर ने 100 युवकों की टीम को वार्डों में चेकअप करने और दवा बांटने के लिए भेजा, नेता प्रतिपक्ष मीनल ने पूछा- किसने दी परमिशन, कौन हैं ये लोग?

रायपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

रायपुर नगर निगम में अब एक नए विवाद ने जन्म ले लिया है। कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देख 5 मई को महापौर एजाज ढेबर ने 100 युवकों की टीम को शहर के वार्डों में रवाना किया। महापौर की तरफ से दावा था कि ये लड़के स्वास्थ्य के प्रति लोगों को जागरूक करेंगे, जरूरतमंद लोगों को आवश्यक दवाईयों का वितरण भी करेंगे। अब इस मामले में भाजपा पार्षदों ने बड़ा सवाल खड़ा किया है। नगर निगम की नेता प्रतिपक्ष मीनल चौबे ने पूछा है कि ये युवक हैं कौन, ऐसा करने की परमिशन किसने दी। मीनल ने चिट्‌ठी लिखकर महापौर से जवाब भी मांगा है।

लोगों की जांच करने जा रहे इन लोगों ने महापौर की तस्वीर वाली टी शर्ट पहन रखी है।
लोगों की जांच करने जा रहे इन लोगों ने महापौर की तस्वीर वाली टी शर्ट पहन रखी है।

ये है पूरा मामला
5 मई को महापौर एजाज ढेबर और मेयर इन काउंसिल के दूसरे नेताओं की मौजूदगी में नगर निगम मुख्यालय के बाहर से बाइक पर युवकों की रैली को झंडा दिखाकर महापौर ने रवाना किया। महापौर ने उस दिन कहा कि रायपुर में कोरोना से निर्णायक संघर्ष के लिए आज शहर के सभी वार्डों में स्वास्थ्य परीक्षण करने के लिए युवा साथियों की टीम को रवाना किया। मेडिकल इक्यिपमेंट्स एवं आवश्यक दवाईयों के साथ यह टीम घर-घर जाकर लोगों को स्वास्थ्य संबंधी जानकारी देगी एवं आवश्यक दवाईयों का वितरण भी करेंगी। अब इसी पर विवाद शुरू हो गया है।

इस तरह से लोगों की जांच कर रहे ये लोग ट्रेंड हेल्थ वर्कर नहीं है ये दावा भी सामने आ रहा है।
इस तरह से लोगों की जांच कर रहे ये लोग ट्रेंड हेल्थ वर्कर नहीं है ये दावा भी सामने आ रहा है।

भाजपा ने उठाया लोगों की सेहत से खिलवाड़ का मुद्दा
अपनी चिट्‌ठी में नगर निगम की नेता प्रतिपक्ष मीनल चौबे ने पूछा है कि भाजपा पार्षद दल यह जानना चाहती है ये मेयर की टीम क्या होती है ? इनके पास डिग्री क्या है? क्या रायपुर कलेक्टर ने आप को इस के लिए परमिशन दी है? स्वास्थ्य विभाग CMHO क्या कर रही है ? क्या MIC से प्रस्ताव कर इस टीम का गठन किया गया है? इस प्रकार शहर की जनता को बेवकूफ मत बनाइए, आप बड़े लोग है, आप लोगों का सब इंतजाम हो जाता है। लगातार कोरोना से लोगों की मौत हो रही है। गरीब लोग वैसे ही परेशान हैं, उनकी सुनने वाला कोई नहीं। उन्हें और मत परेशान करिए और राजनीतिक लोकप्रियता पाने के चक्कर में जनता के स्वास्थ्य के साथ खिलवाड़ मत कीजिए।

5 मई को ये दस्ता महापौर ने एक रैली की तरह शहर में रवाना किया था।
5 मई को ये दस्ता महापौर ने एक रैली की तरह शहर में रवाना किया था।
खबरें और भी हैं...