रायपुर की ठग जादूगरनी:मटके में रुपए डालकर 10 गुना करने का दावा करती, तंत्र-मंत्र करके डेमो भी दिखाया; फिर 5 लाख लेकर फरार, अब गिरफ्तार

रायपुर6 महीने पहले
पुलिस ने महिला के फोन नंबर की लोकेशन निकालकर इसे गिरफ्तार किया।

रायपुर पुलिस ने एक शातिर ठग गैंग को गिरफ्तार किया है। इस गिरोह में शामिल महिला ने अपने आप को जादूगर बताकर परिचितों को ठगने का काम करती थी।​​​​​​ ये तंत्र-मंत्र के जरिए पैसों को 10 गुना करने का दावा करती थी। इस ठगी में दो पुरुष भी इसका साथ देते थे। भोपाल के एक व्यक्ति से ठगी की शिकायत के बाद इन तीनों आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है।

1 हजार के बना दिए 15 हजार भरोसे में आ गया युवक
भोपाल में रहने वाला राम ठाकुर जियो कंपनी में काम करता है। रायपुर की रहने वाली रेखा ठाकुर को वो पहले से जानता था। अपनी जान पहचान के चलते रेखा ने राम को अपने झांसे में ले लिया। एक महीने पहले रेखा ने राम से कहा कि वो कुछ लोगों के संपर्क में है, जो रुपयों को मटके में डालकर रकम 10 गुना कर देते हैं। रेखा ने बातों में ऐसे फंसाया कि ये चमत्कार देखने राम भोपाल से रायपुर पहुंच गया। पचपेड़ी नाका के एक होटल में ठहरे राम से रेखा ने मुलाकात की। रेखा के साथ नरेन्द्र सिंह, नीलेश सोनपिपरे नाम के दो आदमी थे। इन्होंने कहा कि रकम बढ़ानी है तो नवा रायपुर जाना होगा।

बातों में आकर राम इनके साथ निकल गया। वहां रेखा और इसके साथियों ने राम से 1 हजार रुपए मांगे। ये रुपए एक मटके में डाले और तंत्र-मंत्र करने लगे। इसके बाद उन्होंने मटके से 15 हजार रुपए निकाले। इसके बाद राम ने इन ठगों पर भरोसा कर लिया। राम को उन लोगों ने 5 हजार दिए और 10 हजार रुपए रेखा और उसके साथियों ने रख लिए। इसके बाद राम भोपाल लौट गया।

रायपुर पुलिस की गिरफ्त में ये सभी शामिल थे इस ठगी की वारदात में।
रायपुर पुलिस की गिरफ्त में ये सभी शामिल थे इस ठगी की वारदात में।

फिर 5 लाख के 25 लाख बनाने का दावा
भोपाल जाने के 2-3 दिन बाद रेखा सिंह ने फिर राम को कॉल किया। इस बार उसने कहा कि आप 25 लाख रुपये लेकर आओ हम इसका 10 गुना कर देंगे। इसके बाद राम 5 लाख रुपए का जुगाड़ कर रायपुर आ गया। 14 जुलाई को वो रायपुर के होटल में पहुंचा फिर उसी तरह रेखा और उसके दो साथी उसे नवा रायपुर लेकर गए। वो कहते थे कि इस जगह में कुछ दिव्य शक्तियां है जिसकी वजह से रकम बढ़ जाती है। इसके बाद नवा रायपुर में एक तालाब के पास 5 लाख रुपये राम से लेकर मटके में डाले।

गंगाजल बताकर एक पानी जैसी चीज राम को पिला दी। रेखा ने राम से कहा कि मेरी तबीयत ठीक नहीं मैं जा रही हूं और वो चली गई। रेखा के दो साथी नरेन्द्र और नीलेश मटका लेकर वापस पचपेड़ी नाका के होटल आए। उन्होंने राम से कहा कि तीन दिन बाद इस मटके को खोलना इसमें से रुपए निकलेंगे। दो दिन बाद जब राम ने देखा तो मटके में सिर्फ घास-फूस और जड़ी बूटी थी। रेखा और इसके साथियों ने रुपए लौटाने से इनकार कर दिया। फोन नंबर के आधार पर पुलिस ने रेखा और इसके साथियों को सोमवार को रायपुर से पकड़ लिया। अब इनसे पूछताछ की जा रही है।