प्राइड के लिए दौड़ा रायपुर:हजारों प्रतिभागियों के साथ CM भूपेश ने भी लगाई दौड़, मंच से बोले- कका अभी जिंदा है

रायपुरएक महीने पहले

छत्तीसगढ़ में कांग्रेस सरकार के तीन साल पूरे होने के अवसर पर मंगलवार सुबह रायपुर स्वाभिमान के नाम पर दौड़ा। रन फॉर सीजी प्राइड नाम से हुए इवेंट में हजारों प्रतिभागियों के साथ खुद मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने भी दौड़ लगाई। उनके साथ मंत्री प्रेमसाय सिंह टेकाम, महापौर एजाज ढेबर, कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष मोहन मरकाम भी दौड़े। आयोजन के मंच से मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा, कका अभी जिंदा है।

प्रतिभागियों के साथ मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने भी दौड़ लगाई।
प्रतिभागियों के साथ मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने भी दौड़ लगाई।

सुबह 6.30 बजे तक रायपुर का भगत सिंह चौक प्रतिभागियों से खचाखच भर चुका था। 7 बजे के करीब मुख्यमंत्री भूपेश बघेल पहुंचे। वहां उन्होंने कहा, जो हमने नवा छत्तीसगढ़ गढ़ने का संकल्प लिया था उसे हमने पूरा किया है। आज सिर्फ तीन साल में छत्तीसगढ़ में विकास का नया मॉडल बना है। हमने विकास के छत्तीसगढ़ मॉडल से गुजरात मॉडल को पीछे ढकेला है। कोरोना संकट के बावजूद छत्तीसगढ़ में सभी का विकास हुआ है।

मुख्यमंत्री ने कहा, छत्तीसगढ़ पिछले तीन साल से स्वच्छतम प्रदेश का पुरस्कार ले रहा है। हमें इस साल स्वच्छता श्रेणी के 67 राष्ट्रीय पुरस्कार मिले हैं। बाद में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने अलग-अलग झंडी दिखाकर दो वर्गों के प्रतिभागियों को रवाना किया। दौड़ शुरू हो जाने के बाद मुख्यमंत्री, कई मंत्री, महापौर और अफसर भी उसमें शामिल हाे गए। मुख्यमंत्री ने गांधी उद्यान से राजभवन तक की दौड़ लगाई। रन फॉर सीजी प्राइड के नाम से आयोजित मुख्य दौड़ पांच किलोमीटर के ट्रैक पर हुई।

रन फॉर प्राइड के लिए प्रतिभागियों की ऐसी भीड़ उमड़ी थी।
रन फॉर प्राइड के लिए प्रतिभागियों की ऐसी भीड़ उमड़ी थी।

मुख्य ट्रैक पर यहां से गुजरे धावक

पहली श्रेणी में 14 वर्ष से 60 वर्ष तक के आयु वर्ग के लोग शामिल थे। इस वर्ग के प्रतिभागी गांधी उद्यान से जयस्तंभ चौक, कोतवाली चौक, PWD चौक, मजार चौक, इनकम टैक्स कॉलोनी तिराहा होकर वापस शहीद भगत सिंह चौक पहुंचे। इस श्रेणी के विजेता को 21 हजार रुपए, दूसरे स्थान पर आए प्रतिभागी को 15 हजार रुपए और तीसरे स्थान पर आने वाले को 11 हजार रुपए का पुरस्कार मिलेगा। चौथे से दसवें स्थान तक के प्रत्येक प्रतिभागी को 2100 रुपए पुरस्कार तय हुआ है। दौड़ के अलावा फोटोग्राफी, स्लोगन और रील प्रतियोगिता का आयोजन भी हो रहा है।

दौड़ते हए प्रतिभागियों का उत्साह भी देखने लायक था।
दौड़ते हए प्रतिभागियों का उत्साह भी देखने लायक था।

बच्चों-बुजुर्गों के लिए छोटा रास्ता

वरिष्ठ नागरिक और 14 साल से कम उम्र के बच्चों की एक अलग श्रेणी बनी थी। इसमें 14 वर्ष से कम और 60 वर्ष से अधिक आयु वर्ग के लोग शामिल थे। इनके लिए अपेक्षाकृत छोटा रास्ता तय था। इस श्रेणी के धावक गांधी उद्यान से कलेक्टर चौक, राजभवन चौक के आगे आरडीए, इनकम टैक्स कॉलोनी तिराहा होकर वापस शहीद भगत सिंह चौक पहुंचे। इस वर्ग में प्रथम पुरस्कार 11 हजार रुपए, द्वितीय पुरस्कार सात हजार रुपए और तृतीय पुरस्कार पांच हजार रुपए तय हैं।

स्कूली छात्राओं ने यूनिफॉर्म में ही दौड़ लगाई। इस दौरान वे काफी उत्साहित दिखीं।
स्कूली छात्राओं ने यूनिफॉर्म में ही दौड़ लगाई। इस दौरान वे काफी उत्साहित दिखीं।
खबरें और भी हैं...