• Hindi News
  • Local
  • Chhattisgarh
  • Raipur
  • Register Will Have To Be Kept At Drug Shops To Sell Corona Self Test Kit, If There Is No Entry In It, Then Strict Action Will Be Taken Against The Shopkeepers.

सख्त सिस्टम:कोरोना सेल्फ टेस्ट किट बेचने के लिए दवा दुकानों पर रखना होगा रजिस्टर, इसमें एंट्री नहीं तो दुकानदारों पर कड़ी कार्रवाई

रायपुर3 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

शहर में खुद से कोरोना जांच करने वाली टेस्ट किट खरीदने वालों का पता लगाने के लिए सख्त सिस्टम बना दिया गया है। अब शहर में हर दवा दुकानदार जहां कोरोना सेल्फ टेस्ट किट बेची जा रही है, उन्हें किट ले जाने वालों की जानकारी एक रजिस्टर में रखनी होगी। उसमें टेस्ट किट खरीदने वाले का सही नाम, पता और मोबाइल नंबर भी लिखना होगा। टेस्ट किट लेने वाले जांच के बाद निगेटिव निकलें या पॉजिटिव उन्हें इसकी जानकारी दुकानदार या स्वास्थ्य विभाग के कंट्रोल रूम में देनी होगी। ऐसा न करने पर उनके खिलाफ भी कार्रवाई की सकती है।

दवा दुकान वाले किट लेने वालों के नाम पते और मोबाइल नंबर रजिस्टर में लिख रहे हैं या नहीं? इसका पता लगाने के लिए स्वास्थ्य विभाग की टीम अचानक किसी भी दुकान में जांच करेगी। विभाग की टीम ग्राहक बनकर दुकानों से किट भी खरीदकर देखेगी, जिससे पता चलेगा कि वे नाम, पता और मोबाइल नंबर पूछ रहे हैं या नहीं? स्वास्थ्य विभाग के अफसरों के अनुसार नियम का पालन नहीं करने पर दुकान का लाइसेंस निरस्त करने या निलंबित करने तक की कार्रवाई की जा सकती है। फिलहाल जिस इलाके में दवा दुकानें है उस क्षेत्र के इंसिडेंट कमांडरों यानी प्रभारी अधिकारियों को भी कहा गया है कि वे अपने इलाके में मरीजों के अलावा दवा दुकानों की गतिविधियों पर भी बारीकी से नजर रखें। ताकि कहीं भी गड़बड़ी पाए जाने पर तत्काल कार्रवाई की जा सके।

दवा दुकान के रजिस्टर में एंट्री करने के अलावा दवा दुकानदार को टेस्ट किट के बारे में कंट्रोल रूम को भी सूचना देनी पड़ सकती है। कंट्रोल रूम से कभी भी अचानक किसी दुकान संचालक को फोन कर जानकारी मांगी जा सकती है। वहीं टेस्ट किट ले जाकर टेस्ट करने के बाद पॉजिटिव या निगेटिव की जानकारी अनिवार्य रूप से देने की जिम्मेदारी उसी शख्स की होगी।

बिक्री के आधार पर घरों तक जाएंगी ट्रेसिंग टीमें
टेस्ट किट की बिक्री के आधार पर ट्रेसिंग टीमें किट ले जाने वाले लोगों के घरों तक भी जाएगी। अगर कोई जानकारी छिपाकर घूमता पाया गया तो उस पर एफआईआर भी की जाएगी। स्वास्थ्य विभाग के महामारी नियंत्रण विभाग की ओर से सभी जिलों को इसके लिए निर्देशित किया गया है कि वे अपने यहां टेस्ट किट की बिक्री का पूरा ब्यौरा रखें।

खबरें और भी हैं...