नवा रायपुर के नए दफ्तर में होने लगी रजिस्ट्री:नवा रायपुर में जमीन और मकान की रजिस्ट्री बढ़ी शहर में वेटिंग सात से कम होकर 3-4 दिन हुई

रायपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • नवा रायपुर में हर दिन 35 से 45 रजिस्ट्री, सॉफ्टवेयर भी अपडेट, 41 गांवों की जमीन की खरीदी-बिक्री की हो रही रजिस्ट्री

नवा रायपुर के 41 गांवों के जमीन की खरीदी-बिक्री के लिए अब रजिस्ट्री नवा रायपुर के नए दफ्तर में होने लगी है। गांव वालों को रजिस्ट्री के लिए शहर नहीं आना पड़ रहा है। इसका असर शहर में होने वाली रजिस्ट्री पर पड़ा है। रोज होने वाली रजिस्ट्री की संख्या कम हो गई है। पहले जहां अपाइनमेंट लेने पर सात-सात दिन बाद रजिस्ट्री का नंबर आ रहा था, अब तीन-चार दिन की वेटिंग मिल रही है।

नवा रायपुर में रजिस्ट्री दफ्तर दो माह पहले ही खुल गया था, लेकिन अगस्त के बाद सॉफ्टवेयर अपडेट नहीं किया गया। इस वजह से वहां के गांवों की रजिस्ट्री भी रायपुर दफ्तर में हो रही थी। नवा रायपुर दफ्तर खुलने के बाद भी लोगों को रजिस्ट्री के लिए यहां आना अखर रहा था। इससे नाराज कई लोगों ने विरोध किया। इसके बाद ही आला अफसरों ने नए दफ्तर का सॉफ्टवेयर अपडेट करवाया। अब नवा रायपुर में हर दिन 35 से 45 रजिस्ट्री हो रही है। वहां के गांवों के लिए ऑनलाइन अप्वाइंटमेंट भी नवा रायपुर के दफ्तर के लिए ही जारी हो रहे हैं। नवा रायपुर रजिस्ट्री दफ्तर की ओर से जारी आंकड़ों के अनुसार केवल सितंबर में ही 2.36 करोड़ की 186 रजिस्ट्री हो चुकी है। अगस्त के आखिरी हफ्ते में साफ्टवेयर अपडेट होने के बाद अब तक कुल 2.81 करोड़ की 232 रजिस्ट्री ऑनलाइन हो चुकी है। नवा रायपुर के 41 गांवों के लोगों को अब वहां के जमीनों की रजिस्ट्री के लिए रायपुर आने की जरूरत नहीं पड़ रही है। इससे बड़ी संख्या में लोगों को राहत मिल रही है। लोगों का समय भी बच रहा है।

रायपुर में और कम होगी वेटिंग
नवा रायपुर का दफ्तर पूरी तरह से शुरू हो जाने का असर अब रायपुर में पड़ना शुरू हो गया है। पहले जहां राजधानी में हर दिन 150 से 160 रजिस्ट्री होती थी वहीं अब इसकी संख्या कम होकर औसतन 125 के आसपास हो गई है। रजिस्ट्री की संख्या कम होने से वेटिंग लिस्ट भी छोटी हो गई है। रजिस्ट्री की इस नई व्यवस्था से छत्तीसगढ़ क्रेडाई के सदस्यों को भी राहत मिल रही है। निजी बिल्डरों की ओर से होने वाली रजिस्ट्री ज्यादा और कम समय में हो पा रही है। सरकारी एजेंसियां भी इस नए सिस्टम को लेकर संतुष्ट है, क्योंकि नवा रायपुर की रजिस्ट्री अब अलग से वहीं पर हो रही है।

इन गांवों के लिए नया रजिस्ट्री ऑफिस
नए सिस्टम के तहत अब रायपुर तहसील के गांव सेरीखेड़ी, नकटी, धरमपुरा, टेमरी, बनरसी, माना बस्ती, अभनपुर तहसील के गांव तूता, उपरवारा, बेंद्री, केंद्री, निमोरा, परसट्टी, छांकी, खंडवा, भेलवाडीह, पचेड़ा, चेरिया, पौता, तेंदुआ, बंजारी, कुर्रू और आरंग तहसील के गांव राखी, कुहेरा, कोटराभाटा, झांझ, नवागांव, खपरी, कयाबांधा, कोटनी, सेंध, रीको, चीचा, परसदा, पलौदा, बरौदा, रमचंडी, तांदुल, छतौना, नवागांव, मंदिर हसौद और उमरिया के जमीन की रजिस्ट्री नवा रायपुर के दफ्तर में ही हो रही है।

नवा रायपुर के 41 गांवों की रजिस्ट्री नए दफ्तर से ही हो रही है। ऑनलाइन अपाइनमेंट वहीं के लिए ही जारी हो रहे हैं। इससे रायपुर शहर की वेटिंग भी कम हो रही है। लोग आसानी से दोनों जगहों पर रजिस्ट्री करवा पा रहे हैं।
-बीएस नायक, जिला पंजीयक

खबरें और भी हैं...