सतर्कता / सांई नगर और लगे इलाके की सड़कें-गलियां सील, साढ़े तीन हजार लोगों का हेल्थ सर्वे, 17 सैंपल लिए

Roads and lanes of Sai Nagar and Lage area sealed, health survey of three and a half thousand people, 17 samples taken
X
Roads and lanes of Sai Nagar and Lage area sealed, health survey of three and a half thousand people, 17 samples taken

  • तीसरे कंटेनमेंट जोन सांईंनगर में 14 दिन बाद ही जनजीवन होगा सामान्य

दैनिक भास्कर

May 27, 2020, 06:46 AM IST

रायपुर. राजधानी में कोरोना का 9वां मरीज मिलने के बाद जेल रोड से लगी सांईंनगर काॅलोनी और भाटापारा बस्ती को कंटेनमेंट जोन घोषित करते हुए पुलिस ने इलाके की दो दर्जन से ज्यादा सड़कें और गलियां सील कर दी हैं। पुलिस ने बिना पास के सड़कों पर आना-जाना बैन कर रखा है, लेकिन लोग भी घरों से नहीं निकल रहे हैं। इमरजेंसी सेवा वालों को पास या आई-कार्ड पर ही छूट दी गई है। सभी निजी और सरकारी दफ्तरों के साथ-साथ राशन दुकान भी बंद कर दी गई है। इधर, स्वास्थ्य विभाग की टीम सोमवार रात से ही पूरे इलाके में उतर गई है और लोगों के घरों में जाकर 3660 लोगों के स्वास्थ्य का सर्वे किया गया है। यहां पाजिटिव पाई गई नर्स और उसके परिवार से संपर्क में आए तथा सर्दी-खांसी-बुखार वाले 17 लोगों के सैंपल लेकर जांच के लिए भेज दिए गए हैं।
इस कॉलोनी के एक युवक ने बताया कि पहली बार यहां ऐसा सन्नाटा हुआ है। जबकि सांई नगर और आसपास मेडिकल फील्ड वाले तथा नर्सिंग से जुड़े लोग बड़ी संख्या में रहते हैं। कई घरों में हाॅस्टल भी चल रहे हैं। सांई नगर और भाटापारा जाने के चारो ओर से रास्ते हैं। एक रास्ता देवेंद्र नगर चौक से वाणिज्यकर कार्यालय से होकर जाता है। एक होटल के बगल से भी सड़क है। एक्सप्रेस-वे और फाफाडीह की ओर से भी यहां आने-जाने के रास्ते हैं और यह सभी एक-दूसरे से जुड़े हैं। इन सभी रास्तों को बेरिकेड्स से बंद कर दिया गया है। मंगलवार को सुबह यहां के कई लोगों ने बाहर जाने की कोशिश की, लेकिन पुलिस ने बगैर पास के जाने नहीं दिया।
768 घरों में जाकर लोगों की सेहत पूछी
सांईं नगर में नर्स के संपर्क में रहे पति, मकान मालिक के साथ अस्पताल की नर्सें और आया समेत 17 लोगों के स्वास्थ्य की जांच करते हुए सैंपल लिए गए हैं। इनमें 16 लोग यहीं के हैं तथा एक नर्स दुर्ग की है। मंगलवार को सांईं नगर और देवेंद्रनगर में स्वास्थ्य विभाग की 9 टीमें 768 घरों में पहुंची और लोगों की सेहत पूछकर रिकार्ड तैयार किया। टीमें इस दौरान 5 साल के कम उम्र के 351 बच्चों, 60 उम्र से ज्यादा के 232 लोगों और 8 गर्भवती महिलाओं से भी मिलीं। रैंडम जांच के नतीजों की स्वास्थ्य विभाग समीक्षा करेगा। जिन 17 लोगों के सैंपल लिए गए हैं, उनमें संक्रमण रहा तो फिर ऐसे लोगों के सैंपल भी लिए जाएंगे, जिन्होंने मामूली सर्दी-खांसी बताई है। इन सैंपलों की जांच बाद में की जाएगी।
सड्‌ढू में 10 हजार लोगों तक पहुंची हेल्थ टीमें
राजधानी के सड्‌ढू बीएसयूपी कॉलोनी में मिले कोरोना पॉजीटिव मरीज मिलने के बाद पिछले चार दिन के दौरान वहां के कंटेनमेंट एरिया के ढाई हजार घरों में रहनेवाले 10 हजार लोगों की सेहत की जांच की गई है। हेल्थ विभाग की 27 टीमों के 135 कर्मचारियों ने लगातार घरों में जाकर यह जानकारी जुटाई और संक्रमित होटल कर्मी के संपर्क में आए 26 लोगों का सैंपल भी लिया, हालांकि सभी निगेटिव निकले। सर्वे में कंटेनमेंट एरिया के कोर जोन को कवर किया गया था। अब एक किमी के दायरे में पड़ताल शुरू की गई है। पूरे इलाके में अब तक 30 लोगों को होम क्वारेंटाइन करते हुए इन्हें 14 दिन तक घरों में ही रहने के लिए कहा गया है।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना