पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

कोरोना से बचाव:स्टेशन में लगेज सेनेटाइजेशन के 10 रुपये, प्लास्टिक कवर 50 रुपये में

रायपुर3 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
फाइल फोटो। - Dainik Bhaskar
फाइल फोटो।
  • सेनेटाइजेशन अनिवार्य नहीं, लेकिन स्टेशन के मेन गेट पर ही लगाया सेटअप

कोरोना की वजह से रेलवे ने स्टेशन में यात्रियों का लगेज सेनेटाइज करने और उसे रैप करने (प्लास्टिक कवर्ड) के लिए शुल्क के साथ सेवा शुरू की है। एक लगेज को सेनेटाइज करने के 10 रुपए लिए जाएंगे। कोई यात्री अगर अपने लगेज को कवर्ड करना चाहे, तो इसके 50 रुपए लगेंगे। फिलहाल यह सुविधा ऐच्छिक है, यानी यात्री चाहें तो करवाएं अन्यथा नहीं। स्टेशन के मेन गेट पर ही इसका सेटअप लगा दिया गया है।

रायपुर रेलवे ने यह काम एक निजी फर्म को सौंपा है। रेलवे ने उससे बाकायदा लाइसेंस शुल्क भी लिया है। यह सिस्टम एक साल तक काम करेगा। अफसरों ने बताया कि अगर यात्री रुचि लेंगे तो अवधि बढ़ा सकते हैं। अफसरों का दावा है कि यह सुविधा अनिवार्य नहीं है। लेकिन मेन गेट पर सिस्टम लगाकर हर यात्री को ऐसा करने के लिए प्रेरित किया जा रहा है। आशंका यह भी जताई जा रही है कि धीरे-धीरे यह अनिवार्य जैसा ही हो जाएगा। यही वजह है कि सुविधा शुरू होने के बाद से ही इस पर सवाल भी उठने लगे हैं।

सिर्फ राजधानी में ही ऐसा... कैसे रुकेगा संक्रमण
लगेज सेनेटाइजेशन और रैप करने का यह सिस्टम पूरे जोन यानी पूरे छत्तीसगढ़ में केवल रायपुर के स्टेशन में है। प्रदेश में रायपुर के अलावा दुर्ग और बिलासपुर भी बड़े स्टेशन हैं, जहां यात्रियों की संख्या काफी अधिक है। लेकिन वहां यह सिस्टम लागू नहीं है। जानकारों के मुताबिक रायपुर के लोग लगेज सेनेटाइज करवाकर सफर करेंगे, दुर्ग-बिलासपुर वाले ऐसा नहीं करेंगे तो फिर रायपुर में खर्च करके लगेज सेनेटाइज करवाने का कोई लाभ नहीं है। अगर रेलवे कोरोना संक्रमण रोकने के लिए यह कवायद कर रहा है, तो इसे हर स्टेशन पर अनिवार्य किया जाना चाहिए। गौरतलब है, लगेज को सेनेटाइज करने या रैप करने का सिस्टम देश के स्टेशन तो दूर, एयरपोर्ट्स तक में नहीं है।
प्लेटफॉर्म 5-6 में लगेंगी कुर्सियां : अभी तक स्टेशन के प्लेटफॉर्म नंबर-1 में ही सोशल डिस्टेंसिंग के लिए प्लास्टिक की कुर्सियां लगाई गई थीं। लेकिन अक प्लेटफॉर्म नंबर 5-6 में भी प्लास्टिक चेयर लगाई जाएंगी। रेलवे ने इन प्लेटफार्म के लिए 400 कुर्सियां खरीदी हैं। इन्हें लगाने का सिलसिला एक-दो दिन में शुरू कर दिया जाएगा। अफसरों का कहना है कि ट्रेनें बढ़ने से स्टेशन में यात्रियों की संख्या बढ़ रही है। अगर स्टेशन में लंबी बेंचों की व्यवस्था जारी रखी गई तो इससे सोशल डिस्टेंसिंग नहीं हो पाएगी। प्लास्टिक चेयर एक-एक मीटर दूर लगाने से दूरी सुनिश्चित की जा सकती है।

किसी को पता ही नहीं कियह सेवा अनिवार्य नहीं है
"स्टेशन में लगेज सैनेटाइज करने के लिए यात्रियों से पैसे लिए जा रहे हैं। उन्हें पता ही नहीं है कि यह अनिवार्य व्यवस्था नहीं है। प्रति लगेज चार्ज भी अधिक है। रेलवे प्रशासन को वहां नोटिस लगाना चाहिए कि सेनेटाइजेशन या लगेज रैप करवाना अनिवार्य नहीं है, ताकि यात्री भ्रमित न हों।"
-नारायण भूषनिया, सदस्य-जोनल सलाहकार समिति

" यह कोरोना संक्रमण से बचाव की व्यवस्था है। यात्री चाहें तो शुल्क देकर सुविधा ले सकते हैं। "
-बीपीटी राव, स्टेशन डायरेक्टर

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आप अपने व्यक्तिगत रिश्तों को मजबूत करने को ज्यादा महत्व देंगे। साथ ही, अपने व्यक्तित्व और व्यवहार में कुछ परिवर्तन लाने के लिए समाजसेवी संस्थाओं से जुड़ना और सेवा कार्य करना बहुत ही उचित निर्ण...

    और पढ़ें