लेटलतीफी जारी:सरोना का कचरा नष्ट करना शुरू नहीं, संकरी में बदबू से बेचैन लोग

रायपुर24 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
पुराने ट्रेंचिंग ग्राउंड सरोना में जमा साढ़े चार लाख टन से ज्यादा कचरे को नष्ट करने के लिए निगम ने टेंडर जारी कर दिया है। लेकिन अब तक काम शुरू नहीं हो पाया है। - Dainik Bhaskar
पुराने ट्रेंचिंग ग्राउंड सरोना में जमा साढ़े चार लाख टन से ज्यादा कचरे को नष्ट करने के लिए निगम ने टेंडर जारी कर दिया है। लेकिन अब तक काम शुरू नहीं हो पाया है।

पुराने ट्रेंचिंग ग्राउंड सरोना में जमा साढ़े चार लाख टन से ज्यादा कचरे को नष्ट करने के लिए निगम ने टेंडर जारी कर दिया है। लेकिन अब तक काम शुरू नहीं हो पाया है। टेंडर जारी करने के बाद निगम ने कंपनी भी फाइनल कर ली है। रेट की मंजूरी के लिए फाइल मंत्रालय भेजी गई है। वहां से स्वीकृति नहीं मिलने के कारण सरोना में जमा कचरे को नष्ट करने की प्रक्रिया शुरू नहीं हो पाई है।

इधर, संकरी में बनाए गए नए ट्रेंचिंग ग्राउंड से उठ रही बदबू ने आसपास रहने वाले लोगों की परेशानी बढ़ा दी है। यहां भी कचरा नियमित रूप से नष्ट नहीं हो पा रहा है। कचरे का पहाड़ बन गया है। इससे उठ रही बदबू वातावरण को प्रदूषित कर रही है। आसपास रहने वाले लोग इसकी शिकायत करने लगे हैं।

निगम ने जुलाई 2019 में सरोना में कचरा डंप करना बंद कर दिया था। सरोना ट्रेंचिंग ग्राउंड को बंद करने के बाद यहां जमा 4.50 लाख टन से ज्यादा कचरे को डिस्पोज करने के लिए टेंडर जारी किया था। लुधियाना की जेबीआर टेक्नोलॉजी प्राइवेट लिमिटेड का रेट (330 रुपए प्रति टन) सबसे कम होने के कारण उसका टेंडर फायनल किया गया है।

टेंडर फाइन होने के बाद उसे सामान्य सभा में मंजूरी के बाद शासन को भेजा गया। अब तक वहां से स्वीकृति नहीं मिलने के कारण कंपनी को वर्कआर्डर जारी नहीं किया जा सका है। कंपनी को करीब 15 करोड़ में ठेका दिया गया है। कचरा नष्ट करने के बाद वहां हरियाली विकसित करना होगा, जिससे आसपास का वातावरण शुद्ध रह सके।

लोगों के घरों के अंदर तक जा रही बदबू
सरोना में कचरा फेंकना बंद करने के बाद संकरी में नया ट्रेंचिंग ग्राउंड बनाया गया। दिल्ली की कंपनी एमएसडब्ल्यू सॉल्यूशन को डोर टू डोर कचरा कलेक्शन करना, संकरी ट्रेंचिंग ग्राउंड में ले जाकर वहां उसे नष्ट करने का ठेका दिया गया। शहर से रोज लगभग साढ़े पांच टन टन कचरा निकलता है। गीला और सूखा कचरा अलग करने के बाद गीले कचरे से खाद बनाने और सूखे कचरा को रीसाइकिल करने का अनुबंध है।

बताया जा रहा है कि कंपनी कचरा का तय मापदंड में निष्पादन नहीं कर रही है। इस वजह से यहां कचरे का अंबार लग रहा है और उसकी बदबू से आसपास के लोग परेशान हो रहे हैं। लोगों का कहना है कि तेज हवा चलने पर बदबू घरों के भीतर तक पहुंच जाती है। खाना, पीना, सोना मुश्किल हो गया है। घर के भीतर कूलर तक चालू नहीं कर पाते।

सरोना के लिए शासन से मंजूरी का इंतजार है। स्वीकृति मिलते ही काम शुरू हो जाएगा। संकरी को लेकर जो शिकायतें हैं उनकी जानकारी मंगवाई है। कचरे का निष्पादन सही तरीके से नहीं हो रहा है तो ठेका कंपनी के अधिकारियों पर कार्रवाई की जाएगी। -एजाज ढेबर, महापौर रायपुर

खबरें और भी हैं...