सोशल मीडिया में सर्च करते समय आया लालच:पेंगोलिन कवच की डिमांड देखकर सब इंस्पेक्टर बना तस्कर

रायपुर3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • गांव से लाकर बेचते समय जयस्तंभ चौक पर गिरफ्तार

माना एयरपोर्ट में पदस्थ सीआईएसएफ का सब इंस्पेक्टर बुधवार शाम 5 बजे जयस्तंभ चौक पर पेंगोलिन का कवच बेचते पकड़ा गया। सोशल मीडिया में उसने देखा कि पेंगोलिन के कवच की जबरदस्त डिमांड है। मोटी कमाई के चक्कर में वह तस्कर बन गया। छिंदवाड़ा स्थित अपने गांव से वह पेंगोलिन की कवच लेकर आया।

सोशल मीडिया में उसने 50 हजार रुपए किलो के हिसाब से कवच का सौदा किया। उसने जिससे सौदा किया वे वाइल्ड लाइफ क्राइम ब्यूरो के सदस्य थे। वह जैसे ही डिलीवरी देने पहुंचा, ब्यूरो और वन विभाग की टीम ने गिरफ्तार कर लिया। सीआईएसएफ के सब-इंस्पेक्टर जितेंद्र कोचे को गिरफ्तार कर उससे पूछताछ की जा रही है। अफसरों के अनुसार पेंगोलिन शेड्यूल-1 के दायरे में आता है। इस वजह से सब इंस्पेक्टर कोचे के खिलाफ वन्य प्राणी अधिनियम के तहत कार्रवाई की गई है। प्रारंभिक जांच में पता चला है कि जितेंद्र कोचे ने कुछ दिन पहले सोशल मीडिया में देखा कि कुछ लोग पेंगोलिन के कवच की डिमांड कर रहे हैं।

उसने दिए गए नंबरों पर संपर्क किया। उसका राहुल के साथ 50 हजार किलो में सौदा तय हुआ। इसके बाद छिंदवाड़ा स्थित अपने गांव देवनदी गया। वहां से उसने पेंगोलिन का कवच लिया। बुधवार को वह रायपुर लौटकर आया। उसने राहुल से संपर्क किया और बताया कि कवच उसके पास आ गया है। राहुल ने उसे जयस्तंभ चौक के पास एक होटल के सामने शाम 5 बजे बुलाया। सब-इंस्पेक्टर एक बैग में कवच लेकर आया था। वहीं वन विभाग और ब्यूरो की टीम ने उसे पकड़ लिया।

सोशल मीडिया में पेंगोलिन कवच की डिमांड का झूठा मैसेज वाइल्ड लाइफ क्राइम ब्यूरो की टीम फैलाया था। वन विभाग के अफसरों के अनुसार ब्यूरो की टीम तस्करों को पकड़ने के लिए ऐसे मैसेज जारी करती है। ऐसे मैसेज से ही तस्कर जाल में फंसते हैं। सीआईएसएफ के जवान से सौदेबाजी करने वाला राहुल भी क्राइम ब्यूरो का सदस्य है। इसमें वाइल्ड लाइफ ट्रस्ट ऑफ इंडिया की टीम भी शामिल रहती है।

इंटरनेशनल मार्केट में 10 लाख तक कीमत
सीआईएसएफ के सब इंस्पेक्टर से पूरे एक पेंगोलिन का कवच जब्त किया गया है। वन विभाग के अफसरों के अनुसार चायना में इनकी खासी डिमांड है। इंटरनेशनल मार्केट में इसकी 5 से 10 लाख तक कीमत आंकी जाती है। चायना में पेंगोलिन कवच को लेकर कई तरह की भ्रांतियां हैं।

खबरें और भी हैं...