इंटरनेशनल गैंग ने छत्तीसगढ़ में ठगे 87 लाख:म्यूचुअल फंड से ज्यादा रिटर्न का दिलाया भरोसा, विदेशी नागरिकों से साथ मिलकर चल रहा था गिरोह

रायपुर3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

छत्तीसगढ़ में एक शख्स से 87 लाख रुपए की ठगी हो गई। खास बात ये है कि इस वारदात को अंजाम एक इंटरनेशनल लेवल के गैंग ने दिया है। इसमें विदेश नागरिक भी शामिल हैं। इस गिरोह ने शख्स को म्यूचुअल फंड निवेश के बाद ज्यादा रिटर्न का भरोसा दिलाया था। मगर ऐसा हुआ नहीं, वह आरोपी ही भाग निकला। इसके बाद पूरे मामले की शिकायत राज्य साइबर थाना पुलिस से हुई थी। अब इस मामले में एक आरोपी को गिरफ्तार किया गया है, जबकि उसके अन्य साथियों की तलाश जारी है।

इस केस में पीड़ित शख्स ने 26 अक्टूबर 2021 को शिकायत की थी। शिकायत में बताया गया कि उसे एक दिन वॉट्सऐप पर मैसेज आया था। मैसेज में बताया गया कि वह सिंगापुर की एक कंपनी का बंदा है। उनकी भारत में भी एक शाखा है। कंपनी पैसा निवेश करने का काम करती है। फिर म्यूचुअल फंड निवेश के बाद ज्यादा रिटर्न दिया जाता है। साथ ही उसने इस संबंध में कई प्रमाण भी दिए थे। कई ऑफर भी आरोपी ने पीड़ित को बताए थे।

बताया गया कि उसने अपने आप को कंपनी का फाइनेंशियल एनालिस्ट बताया था। उसने कहा कि आप हमारी कंपनी में निवेश करिए। ये निवेश शेयर मार्केट के जरिए होना है। यही बात सुनकर पीड़ित आरोपी की बात में आ गया। इसके बाद उसने धीरे-धीरे करके यहां 87 लाख रुपए निवेश कर दिए। पीड़ित ने बताया कि निवेश करने के बाद उसने कई बार उससे संपर्क किया तो वह आज-कल पैसे रिटर्न की बात करता था। मगर काफी दिन बीत जाने के बाद भी उसे कोई लाभ नहीं मिला। इसके बाद उसे पता चला कि उसके साथ ठगी हुई है। पीड़ित की शिकायत पर पुलिस ने मामले की जांच शुरू की थी।

दूसरे राज्य से पकड़ा गया आरोपी

साइबर पुलिस ने इस केस मे काफी गंभीरता से जांच की। जांच में पुलिस को पता चला कि कंपनी का नाम क्रिएटिव टेक्नोलॉजी है। उस नंबर की भी जांच की गई, जिस नंबर से पीड़ित को मैसेज आते थे। बैंक नंबर का भी पता लगाया गया था, तब पुलिस को पता चला कि यह नंबर महाराष्ट्र और कर्नाटक का है। इसके बाद पुलिस की एक टीम को वहां भेजा गया और आरोपी मोहसिन एन को गिरफ्तार किया गया है। ये अपने आप को कंपनी का डायरेक्टर बताया करता था।

विदेशी नागरिकों के साथ मिलकर रजिस्टर्ड हुई कंपनी

इसके अलावा पुलिस को यह भी पता चला कि इस कंपनी के खिलाफ गृह मंत्रालय ने पहले ही कार्रवाई के निर्देश दिए हुए थे। इसके बावजूद मोहसनी अपने साथियों के साथ मिलकर कई लोगों को ठग चुका है। गिरफ्तार करने के बाद पुलिस ने मोहसीन से पूछताछ की। पूछताछ में मोहसीन ने बताया कि उसने विदेश नागरिकों के साथ मिलकर इस कंपनी को रजिस्टर्ड कराया था और कई लोगों को इस तरह से चूना लगा चुका है।

आरोपी के गुनाह कबूल करने करने के बाद पुलिस ने उन खातों को फ्रीज कर दिया है। जिसके जरिए पैसों को लेन देन किए गए हैं। मोहसीन से पूछताछ जारी है। उसके साथियों के बारे में भी पता लगाया जा रहा है। संभावना है कि पूछताछ में कोई और बड़ा खुलासा होगा। साइबर पुलिस ने मंगलवार को पूरे मामले की जानकारी दी है।

खबरें और भी हैं...