छत्तीसगढ़ में पेट्रोल-डीजल पर वैट कम करने की कवायद:सीएम को प्रस्ताव भेजेंगे सिंहदेव, भूपेश ने केंद्र से कहा- बढ़ा वैट पहले वापस लें

रायपुर22 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

केंद्र सरकार ने डीजल-पेट्रोल पर लगने वाले वैट की दरें कम कर दी है। अब तक देश के 22 राज्यों ने वैट की दरों को घटा दिया है। इसी क्रम में छत्तीसगढ़ में भी पेट्रोल-डीजल पर लग रहे वैट को कम करने जीएसटी मंत्री टीएस सिंहदेव ने सीएम भूपेश बघेल को प्रस्ताव भेजेंगे। वहीं, सीएम भूपेश बघेल ने कहा है कि पहले केंद्र सरकार को पेट्रोल पर वैट में की गई बढ़ोतरी को पूरी तरह वापस लेकर यूपीए सरकार जितना वैट लागू करना चाहिए, इसके बाद ही राज्यों से अपेक्षा करनी चाहिए।

सीएम भूपेश ने कहा कि यूपीए सरकार के समय टैक्स 9 रुपए के आसपास था, आज 32 रुपए तक बढ़ गया है, जहां तक छत्तीसगढ़ का सवाल है तो छत्तीसगढ़ में अब भी पेट्रोल पर रमन सरकार के कार्यकाल जितना ही वैट लागू है। हमने वैट पर कोई बढ़ोतरी नहीं की है। बघेल ने कहा है कि यदि केंद्र सरकार द्वारा वैट में की गई बढ़ोतरी को वापस ले कर पूर्ववत कर दिया जाता है तो पेट्रोल के दाम 50-60 रुपए प्रति लीटर तक आ सकते हैं। रायपुर में मीडिया से चर्चा के दौरान टीएस सिंहदेव ने कहा कि जिस दिन केंद्र सरकार ने वैट की दरों में कटौती की घोषणा की थी, उसी दिन से संभावना तलाशी जा रही थी। शेष|पेज 8

सीएम भूपेश ने मुझसे इस मामले में पूछा था। उन्होंने कहा था कि विभाग की ओर से एक प्रस्ताव बनाकर पेश किया जाएगा। सिंहदेव ने कहा, अभी डीजल और पेट्रोल पर 25% का फ्लैट रेट है। एक और दो रुपए का उप कर भी लगाया गया है। इसको छोड़कर वैट की दर में कमी करने पर विचार हो रहा है। सिंहदेव ने कहा कि छत्तीसगढ़ चारों तरफ से दूसरे राज्यों से घिरा हुआ है। ऐसे में वहां की कीमतों को भी ध्यान में रखना होगा। इनका विवरण मांगा गया है। अगर हम पड़ोसी राज्यों से ज्यादा दाम रखते हैं तो लोग वहां दूसरे राज्यों में तेल भरा कर आते हैं। इससे वैट का भी नुकसान होता है। अगर पड़ोसियों की अपेक्षा कम कर देते हैं तो हो सकता है वॉल्यूम हमें ज्यादा मिलेगा। नए प्रस्ताव में इसका भी ध्यान रखा जाएगा।

टीएस बोले- राज्यों की आमदनी पर दबाव बढ़ा
टीएस सिंहदेव ने कहा कि पेट्रोल-डीजल से सेंट्रल एक्साइज कम होने से राज्य की आमदनी भी कम हो गई है। सेंट्रल एक्साइज का 42 प्रतिशत हिस्सा राज्यों को आता है। केंद्र सरकार ने इसके अलावा कई तरह के सेस लगा रखे हैं, जिसका हिस्सा राज्यों को नहीं मिलता। अब केंद्र ने राहत के नाम पर होशियारी की उसने अपना हिस्सा नहीं घटाया। वह हिस्सा कम किया, जिससे राज्यों की आमदनी प्रभावित हो।

राज्यों की आमदनी पर दबाव बढ़ा
टीएस सिंहदेव ने कहा कि पेट्रोल-डीजल से सेंट्रल एक्साइज कम होने से राज्य की आमदनी भी कम हो गई है। सेंट्रल एक्साइज का 42 प्रतिशत हिस्सा राज्यों को आता है। केंद्र सरकार ने इसके अलावा कई तरह के सेस लगा रखे हैं, जिसका हिस्सा राज्यों को नहीं मिलता। अब केंद्र ने राहत के नाम पर होशियारी की उसने अपना हिस्सा नहीं घटाया। वह हिस्सा कम किया, जिससे राज्यों की आमदनी प्रभावित हो।

रायपुर में 5.82 रुपए कम हुई हैं पेट्रोल की दरें
केंद्र सरकार की ओर से सेंट्रल एक्साइज कम करने के बाद छत्तीसगढ़ के उपभोक्ताओं को भी राहत मिला है। गुरुवार को रायपुर में पेट्रोल की कीमत 101.91 रुपए प्रति लीटर हो गया। बुधवार को इसकी दर 107.73 रुपए प्रति लीटर थी। शनिवार को भी पेट्रोल के दाम 101.91 पर ही स्थिर बने रहे। वहीं डीजल की कीमत 93.80 रुपए प्रति लीटर है। दाम कम होने से पहले इसकी कीमत 106.38 रुपए प्रति लीटर तक पहुंच गया था।

खबरें और भी हैं...