रोज 300 संक्रमित लापता:किसी ने नाम तो किसी ने पता और मोबाइल नंबर गलत लिखाया

रायपुर5 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
लापता होने वाले मरीजों की संख्या में लगातार बढ़ रही - Dainik Bhaskar
लापता होने वाले मरीजों की संख्या में लगातार बढ़ रही

राजधानी में पिछले दो हफ्तों में मरीजों की संख्या 12 हजार के पार पहुंच गई है। पहली दो लहरों की तरह इस बार भी पॉजिटिव आने के बाद लापता होने वाले मरीजों की संख्या में लगातार बढ़ रही है। फिलहाल शहर में रोज मिलने वाले संक्रमितों में 300 से ज्यादा ऐसे होते हैं, जो पॉजिटिव आने के बाद कांटेक्ट ट्रेसिंग टीम की जद में नहीं आ रहे हैं। किसी ने नाम तो किसी ने अपना मोबाइल नंबर गलत दे दिया है। कई ऐसे हैं जिन्होंने अपना पता ही गलत लिखवाया है।

नाम-पता गलत होने के कारण जिला पुलिस प्रशासन, स्वास्थ्य विभाग के साथ स्मार्ट सिटी की टीमें भी उन्हें खोज नहीं पा रही हैं। अनट्रेस मरीजों की ट्रेसिंग के लिए टीमें लगातार 7 से 10 दिन फोन भी कर रही है। जनवरी की शुरूआत में जब केस बढ़ने शुरु हुए तभी से अनट्रेस लोगों की संख्या में भी इजाफा हो रहा है।

स्वास्थ्य विभाग के अफसरों के अनुसार अनट्रेस लोगों के डेटा में हर दिन परिवर्तन हो रहा है। कुछ लोग संक्रमण के पहले दिन फोन नहीं उठाते हैं तो कुछ लोग दूसरे दिन या तीसरे दिन बाद तक संपर्क कर रहे हैं। उसके बाद वे भी अपना फोन बंद कर रहे हैं। ओमक्रिॉन संकट के बाद कांटेक्ट ट्रेसिंग को लेकर विभागों को सबसे ज्यादा फोकस करने के लिए कहा गया है।

मोहल्लों में महिलाओं की टीमें भी बनाई गईं
रायपुर नगर निगम क्षेत्र के 10 जोन के 70 वार्डों में जिला प्रशासन की ओर से अनट्रेस लोगों तक पहुंचने के लिए तीसरी लहर में नई पहल की गई है। जिसमें करीब 30 महिला समूहों की महिलाओं को हर मोहल्ले में ट्रेसिंग के लिए सक्रिय कर दिया गया है। अफसरों के मुताबिक ये पहल काफी कारगर साबित हो रही है, महिला समूह की टीमों के जरिए ऐसे अनट्रेस लोग भी जो गलत जानकारी दे रहे हैं उन तक भी आसानी से पहुंचा जा रहा है। शहर में हर दिन 10 प्रतिशत पॉजिटिव अपना फोन नंबर बंद कर लेते हैं।

इस बार अनट्रेस लोगों की ट्रेसिंग के लिए महिला समूहों की मदद भी ली जा रही है। शहर के हर मोहल्ले में ये टीमें काम कर रही हैं। - डॉ. अंजलि शर्मा, नोडल, होम आइसोलेशन

अनट्रेस मरीजों की सूची स्मार्ट केयर सेंटर को
रायपुर स्मार्ट सिटी ने होम आइसोलेशन मरीजों को घर तक दवा और जरूरी मदद पहुंचाने के लिए केयर कॉल सेंटर बनाया है। इस कॉल सेंटर के जरिए पॉजिटिव लाइन लिस्ट के छूटे हुए यानी अनट्रेस मरीजों की सूची दूसरे दिन स्मार्ट सिटी के केयर सेंटर को भी दी जाती है। जिसके आधार पर अगले दिन ट्रेसिंग का प्रयास किया जाता है। निगम के अपर आयुक्त अभिषेक अग्रवाल ने ट्रेसिंग कर रहे लोगों को हर मरीज तक संपर्क करने का निर्देश भी जारी किया है।

खबरें और भी हैं...