फैशन और इंटीरियर इंडस्ट्री में करियर टिप्स:एक्सपर्ट देंगे गाइडेंस, 12वीं के बाद प्रोफेशनल कोर्स से मिलेगी जॉब, शुरू कर सकेंगे स्टार्टअप; 22 सितंबर से फ्री काउंसिलिंग प्रोग्राम

रायपुर4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
स्टूडेंट्स के लिए 10 दिवसीय करियर काउंसिलिंग प्रोग्राम रायपुर में होगा शुरू। - Dainik Bhaskar
स्टूडेंट्स के लिए 10 दिवसीय करियर काउंसिलिंग प्रोग्राम रायपुर में होगा शुरू।

फैशन और इंटीरियर डिजाइनर्स ग्रुप प्रदेश के स्टूडेंट्स को इस इंडस्ट्री में करियर बनाने से जुड़ी अहम जानकारियां देगा। इसे लेकर ग्रुप 22 सितंबर से 10 दिवसीय करियर काउंसिलिंग प्रोग्राम शुरू करने जा रहा है। यह पूरी तरह से फ्री काउंसलिंग प्रोग्राम होगा। स्टूडेंट्स इस अभियान के तहत एक्सपर्ट्स से फैशन और इंटीरियर डिजाइनिंग में डिप्लोमा, ग्रेजुएशन या पीजी कोर्स से जुड़ी हर बारीकियों को समझ सकते हैं। इस तरह के गाइडेंस प्रोग्राम का प्रदेश में पहली बार आयोजन किया जा रहा है।

काउंसलिंग प्रोग्राम से जुड़े अविनाश मकरंद ने बताया कि फैशन या इंटीरियर के क्षेत्र में करियर बनाने का सपना देख रहे स्टूडेंट्स को इस फील्ड में आने से पहले ही देश के नामी संस्थानों की जानकारी दी जाएगी। एंट्रेंस एग्जाम, एडमिशन प्रोसेस, स्कॉलरशिप और एजुकेशन लोन के बारे में भी बताया जाएगा। काउंसिलिंग में शामिल होने स्टूडेंट्स निशुल्क रजिस्ट्रेशन करवा सकते हैं। इसके लिए स्टूडेंट अपना नाम, क्लास, पता और फैशन या इंटीरियर में से जिसमें भी रुचि हो वो लिखकर 88150 42225 पर वॉट्सऐप करना होगा।

कोर्स है जरूरी
अविनाश ने बताया कि 12वीं की परीक्षाओं के खत्म होने के बाद अब सही समय है करियर प्लानिंग को लेकर काम करने का। फैशन या इंटीरियर के काम के लिए डिजाइनिंग का कोर्स करना जरूरी है। डिजाइनिंग के अंडर ग्रेजुएट कोर्स में एडमिशन के लिए 12वीं पास होना जरूरी है। कई बार अच्छे इंस्टीट्यूट के लिए रिटन एग्जाम, ग्रुप डिस्कशन और पर्सनल इंटरव्यू के दौर से गुजरना पड़ता है। हम काउंसिलिंग के जरिए स्टूडेंट्स को इन्हीं चीजों के बारे में बताएंगे।

फैशन डिजाइनिंग तीन ब्रांचों में बंटी है- गारमेंट डिजाइन, लेदर डिजाइन और एक्सेसरीज और ज्वेलरी डिजाइन। इसके अलावा फैशन बिजनेस मैनेजमेंट, फैशन रिटेल मैनेजमेंट, फैशन मार्केटिंग, डिजाइन प्रोडक्शन मैनेजमेंट जैसे कोर्स भी अवेलेबल हैं। इन कोर्स के बाद शुरूआती दिनों में 15 से 25 हजार रुपये महीने की सैलेरी की जॉब आसानी से मिल जाती है। प्लेसमेंट रिलेटेड ऑप्शन के बारे में भी काउंसिलिंग के जरिए स्टूडेंट्स को बताया जाएगा।

खबरें और भी हैं...