तस्वीरों में देखें भक्ति अनलॉक:पहले दिन धार्मिक स्थल खुले, लेकिन कम लोग ही दर्शन करने पहुंचे; प्रशासन ने प्रसाद देने और भीड़ जमा होने पर लगाया प्रतिबंध

रायपुर7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
तस्वीर रायपुर के राम मंदिर की है। - Dainik Bhaskar
तस्वीर रायपुर के राम मंदिर की है।

शनिवार को धार्मिक स्थल अनलॉक का पहला दिन रहा। रायपुर का राम मंदिर शाम के वक्त खुला। महामाया मंदिर को रविवार या सोमवार से खोला जाएगा। पुरानी बस्ती के दूधाधारी मठ को भी आम लोगों के लिए खोल दिया गया। पहले दिन मंदिर में श्रद्धालुओं की भीड़ नहीं दिखी। अधिकांश मंदिरों में शाम के वक्त ही थोड़ी-बहुत चहल- पहल नजर आई। सभी मंदिरों पर गेट पर भक्तों की लाइन लगाने, उन्हें सैनिटाइज करने का बंदोबस्त किया जा रहा है। शुक्रवार रात को ही कलेक्टर ने गाइडलाइन जारी की थी। फिलहाल मंदिरों में भक्त भगवान का दर्शन और आशीर्वाद ले सकेंगे, मगर प्रसाद नहीं मिलेगा।

धार्मिक स्थानों के लिए ये है नियम

  • प्रसाद नहीं दिया जाएगा, पवित्र जल का छिड़काव नहीं होगा।
  • प्रवेश द्वार पर सैनेटाइजर और थर्मल स्कैनिंग की व्यवस्था करनी होगी। मंदिर में भीड़ जमा न हो ये जिम्मा मंदिर की समिति को दिया गया है।
  • बिना कोरोना लक्षण वाले लोग ही धार्मिक स्थल में प्रवेश करेंगे।
  • मंदिर के अंदर एक बार में 5 लोग को ही प्रवेश की अनुमित होगी।
लाइन लगाकर स्कैनिंग के बाद प्रवेश मिला। तस्वीर रायपुर के राम मंदिर की।
लाइन लगाकर स्कैनिंग के बाद प्रवेश मिला। तस्वीर रायपुर के राम मंदिर की।
  • धार्मिक स्थल के अंदर और बाहर स्थित दुकानों में सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना अनिवार्य होगा।
  • धार्मिक स्थलों में बड़ी सभाएं और मंडली कार्यक्रम प्रतिबंधित रहेगा।
तस्वीर रायपुर के दूधाधारी मठ की।
तस्वीर रायपुर के दूधाधारी मठ की।
  • कोरोना संक्रमण के मद्देनजर प्रशासन ने कहा है कि जहां तक संभव हो रिकॉर्ड किए गए गाने ही मंदिर के अंदर बजाए जाएं।
  • प्रतिमा, धार्मिक ग्रंथों को छूने की अनुमति नहीं होगी।
कोविड प्रोटोकॉल की वजह से मंदिर में लोग एक जगह पर जमा होकर बैठ भी नहीं सकेंगे
कोविड प्रोटोकॉल की वजह से मंदिर में लोग एक जगह पर जमा होकर बैठ भी नहीं सकेंगे
  • बैठने की व्यवस्था इस तरह से की जाए कि पर्याप्त सोशल डिस्टेंसिंग का पालन हो।
  • प्रवेश करने वालों को पहले साबुन और पानी से हाथ धोना होगा।
खबरें और भी हैं...